ग्रीन टी कैसे बनाये सही तरीका उपाय और जरुरी टिप्स

ग्रीन टी (green tea) कैसे बनाये सही तरीका हिंदी में: सुस्ती और थकान दूर करने व शरीर को तरोताजा करने के लिए अधिकतर लोग चाय का सहारा लेते है पर जो चाय हम पीते है वो शरीर की पाचन शक्ति को कमजोर करती है और कब्ज़ गैस व पेट से जुड़ी कई परेशानियां होने लगती है। रोजाना पिने वाली चाय की जगह अगर हरी चाय पिये तो ये काफी फायदेमंद हो सकती है। बहुत से लोग पेट का मोटापा कम करने के लिए पतंजलि टी व लिप्टन ग्रीन टी पीते है पर अधिकतर लोगों को ये नहीं पता की ग्रीन टी कैसे बनाते हैं और ग्रीन टी बनाने का सही तरीका क्या है। आज इस लेख में हम ग्रीन टी बनाने की विधि और उपाय जानेंगे, how to make green tea (recipe) at home for weight loss in hindi.

ग्रीन टी कैसे बनाये, Green tea banane ka tarika hindi me

 

ग्रीन टी बनाने से जुड़े टिप्स

  • चाय की पत्तियों को ज्यादा समय तक उबले हुए पानी में ना रखे इससे चाय कड़वी हो जाती है।
  • फ्लेवर्ड वाली ग्रीन टी बनाने के लिए अदरक, तुलसी के पत्ते या नींबू का रस भी प्रयोग कर सकते है।
  • ग्रीन टी में दूध डालने से इसका असर कम हो जाता है और ये आम चाय की तरह काम करती है।
  • इसमें कैफीन अधिक मात्रा में होता है और जरुरत से ज्यादा इसका सेवन करने से इसके फायदे कम हो जाते है।

 

ग्रीन टी कैसे बनाये सही तरीका और उपाय

Green Tea Banane Ka Tarika in Hindi

 

1. ग्रीन टी 2 तरीके से बनाई जाती है पहला खुली पत्तियों वाली और दूसरा है टी बैग यूज़ करना।

2. ग्रीन टी बनाने की विधि में सामग्री – अगर आप खुली पत्तियों से हरी चाय बनाना चाहते है तो आधे से एक चम्मच पत्तियां ले और अगर ग्रीन टी बैग यूज़ कर रहे है तो 1 टी बैग ले और साथ ही 1 कप पानी।

3. शहद या चीनी 1 चम्मच, इसे आप इच्छानुसार प्रयोग कर सकते है। वेट लॉस के लिए ग्रीन टी बना रहे है तो शहद का प्रयोग करना उचित होगा।

4. अब एक पैन ले और इसमें 1 कप पानी उबाल ले।

5. पत्तियों वाली ग्रीन टी बनाने का तरीका – अगर खुली पत्तियों वाली ग्रीन टी बना रहे है तो पानी उबलने के बाद गैस बंद कर दे और इसमें पत्तियां डाल कर पैन को ढक दे।

6. 2 मिनट के बाद इसे छान कर कप में डालें। अब आपकी टी पिने के लिए त्यार है। इसमें आप इच्छानुसार शहद या चीनी मिला सकते है।

7. ग्रीन टी कैसे बनाये बैग वाली – अगर आप ग्रीन टी बनाने के लिए बैग इस्तेमाल कर रहे है तो खाली कप में ग्रीन टी बैग डाले और ऊपर से गरम पानी डालें। इसमें भी आप इच्छानुसार शहद या चीनी और इलायची पाउडर मिला सकते है।

8. लिप्टन ग्रीन टी खुली पत्तियों और टी बैग दोनों में ही उपलब्ध है। Lipton green tea तुलसी, लेमन और शहद के स्वाद में भी आती है। इसके इलावा आप कोई और ग्रीन टी भी इस्तेमाल कर सकते है।

9. पतंजलि ग्रीन टी दिव्या हर्बल पेय के रूप में patanjali के स्टोर पर उपलब्ध है, ये बाबा रामदेव हर्बल टी भी काफी फायदेमंद है। बहुत से लोग इसे मोटापा कम करने के लिए प्रयोग करते है।

 

ग्रीन टी के फायदे और नुकसान

  • दिमाग तेज करने व याददाश्त बढ़ाने के लिए प्रतिदिन 1 से 2 कप हरी चाय पीना अच्छा उपाय है।
  • बॉडी में एनर्जी और स्टैमिना बढ़ाने के घरेलू नुस्खे में ग्रीन टी भी एक अचूक उपाय है।
  • ग्रीन टी पीने से बाल झड़ने कम होते है। बालों को हो रहे नुकसान को रोकने व बालों की समस्या कम करने में मदद मिलती है।
  • ब्लड प्रेशर के रोगी के लिए ग्रीन टी घरेलू उपचार साबित हो सकती है। ये हाई बी पी के खतरे को कम करती है।
  • दांत स्वस्थ रखने और मुंह की बदबू दूर करने के उपाय के लिए हरी चाय को बिना शहद या चीनी के पीना चाहिए।
  • ग्रीन टी वेट लॉस करने में बहुत फायदेमंद है। ये शरीर में जमा अतिरिक्त कैलोरी बर्न कर के वजन कम करने में मदद करती है।
  • शुगर (डायबिटीज) से पीड़ित व्यक्ति को ग्रीन टी पीनी चाहिए। शुगर होने पर ये रक्त शर्करा के स्तर को कंट्रोल में रखने में उपयोगी है।
  • ग्रीन टी का सेवन अधिक मात्रा में करने से अनिद्रा, जादा पेशाब आना, उल्टी, दस्त और पेट की खराबी जेसे रोग हो सकते है।
  • अगर आप किसी दवा का सेवन कर रहे है तो ध्यान रहे ग्रीन टी किसी भी दवा के साथ ना ले।

 

दोस्तों ग्रीन टी कैसे बनाये, Green tea banane ka tarika (recipe) in hindi का ये लेख कैसा लगा हमें बताये और अगर आपके पास वेट लॉस के लिए पतंजलि और लिप्टन ग्रीन टी बनाने का सही तरीका, उपाय, विधि से जुड़े अनुभव है तो हमारे साथ सांझा करे।

Recent Articles

आईयूआई क्या हैं कैसे होता है पूरी प्रक्रिया: IUI Treatment in Hindi

हर महिला का सपना होता है वो एक दिन माँ बने, उसे भी बच्चे का सुख मिले। पर कुछ महिलाए सालो प्रयास के बाद...

आँखों में जलन और दर्द का इलाज 10 आसान घरेलू उपाय और नुस्खे

आँखों में जलन और दर्द का इलाज और घरेलू उपाय: आँखों में खुजली होना, पानी आना, आँखे लाल होना, दर्द और जलन होने का...

Sardiyo me thand se kaise bache 10 aasan gharelu upay in hindi

Sardiyo me thand se kaise bache upay in hindi: sardi ke mausam me kai jagaho par temperature 0 dregree se bhi niche chla jataa...

सर्दियों में ठंड से बचने के तरीके और 5 आसान घरेलू उपाय

सर्दी में ठंड से बचने के तरीके और घरेलू उपाय: सर्दियों के मौसम में तापमान कई जगहों पर जीरो डिग्री से भी कम चला जाता...

प्रेगनेंसी के इलावा पीरियड देरी से आने के 10 कारण और उपाय

प्रेगनेंसी के इलावा पीरियड देरी से आने के कारण: हम पीरियड्स को माहवारी, mc और मासिक धर्म के नाम से जानते है। आज के...

6 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here