यूरिन इन्फेक्शन के लक्षण और 5 आसान उपाय – Urine Infection in Hindi

यूरिन इन्फेक्शन का घरेलू इलाज इन हिंदी: जैसे रुके हुए पानी में अक्सर बैक्टीरिया जमा होने लगते है वैसे ही पेशाब रोकने पर मूत्राशय में भी बैक्टीरिया जमा हो जाते है जिस कारण पेशाब में संक्रमण होने का खतरा बढ़ जाता है। यूरिन में इन्फेक्शन के लक्षण वीमेन में अधिक दिखते है। इस संक्रमण को यूरिन ट्रैक इन्फेक्शन (UTI) के नाम से भी जानते है। यूरिन इन्फेक्शन ट्रीटमेंट के लिए कुछ लोग मेडिसिन भी लेते है। दवा के इलावा घरेलू नुस्खे और आयुर्वेदिक तरीके से घर पर उपचार कर सकते है। आइये जाने natural home remedies and ayurvedic gharelu nuskhe for urine Infection treatment in hindi.

पेशाब में संक्रमण का सीधा असर किडनी पर पड़ता है और समस्या गंभीर होने पर किडनी फेलियर तक हो सकता है। ऐसी स्थिति में शरीर में उपस्थित हानिकारक पदार्थ शरीर से बाहर निकलने की बजाए शरीर में ही घुलने लगते है। काफी देर तक पेशाब रोक कर रखे तो पेशाब का रंग गहरा आने लगता है जो यूरिन इन्फेक्शन सिम्पटम्स है। अगर प्रेशर बढ़ने के बाद भी पेशाब ना किया जाए तो ये गुर्दे की तरफ वापिस जाने लगता है जिससे गुर्दों को नुकसान होता है।

यूरिन इन्फेक्शन का घरेलू इलाज, Urine infection treatment in hindi

 

यूरिन इन्फेक्शन के लक्षण – Urine Infection Symptoms

अगर आप को यहां बताये गए सिम्पटम्स महसूस हो तो यूरिन टेस्ट करवाए और रोग की पुष्टि करे।

  • यूरिन में ब्लड आना
  • बुखार आना, ठंड लगना
  • गुप्त अंग पे खुजली होना
  • Peshab करते वक़्त दर्द होना
  • पेशाब में जलन महसूस होना
  • बार बार पेशाब की हाजत होना
  • कमज़ोरी और थकान महसूस होना
  • यूरिन का रंग पीला होना और यूरिन में बदबू आना
  • पेशाब में रुकावट आना और रुक रुक के पेशाब आना

 

यूरिन में इन्फेक्शन होने के कारण – Causes

  • ज्यादा देर तक ब्लैडर में पेशाब रोकना।
  • शुगर (Diabetes) के रोगी को भी पेशाब में संक्रमण की आशंका ज्यादा होती है।
  • Women को पीरियड्स और प्रेगनेंसी के समय UTI की संभावना होती है।
  • रीढ़ की हड्डी की चोत्से प्रभावित व्यक्ति को भी यूरिन इन्फेक्शन का ख़तरा होता है।

 

एलोपैथी से यूरिन इन्फेक्शन का इलाज

यूरिन इन्फेक्शन का ट्रीटमेंट के लिए डॉक्टर एंटीबायोटिक मेडिसिन देते है जो ब्लैडर में उपस्थित हानिकारक बैक्टीरिया ख़तम करते है।

  • कई बार medicine इन्फेक्शन के कारण को दूर नहीं कर पाती जिस वजह से एक बार इन्फेक्शन ठीक होने जाने के बाद कुछ दिनों में फिर से हो जाता है।

 

यूरिन इन्फेक्शन का घरेलू इलाज और उपाय

Urine Infection Treatment in Hindi

मेडिसिन की बजाय अगर यूरिन इन्फेक्शन दूर करने के लिए घरेलू नुस्खे किये जाये तो इन्फेक्शन खतम करने के साथ इस समस्या के कारणों को भी खतम कर सकते है और इससे बचने के उपाय भी किये जा सकते है।

 

1. पानी ज्यादा पिए – Drink Water

यूरिन इंफेक्शन का कारण मूत्राशय में बैक्टीरिया जमा होना है। इन्फेक्शन दूर करने के लिए पानी ज्यादा से ज्यादा पिए ताकि पेशाब के रास्ते बैक्टीरिया बाहर निकल जाए।

 

2. सेब का सिरका – Apple Cider Vinegar

सेब के सिरके को अंग्रेजी में एप्पल साइडर विनेगर कहते है। ये यूरिन इन्फेक्शन के symptoms को कम करने और गुप्त अंग की समस्याओं के इलाज में काफ़ी उपयोगी है। 2 चम्मच सेब का सिरका, आधा चम्मच शहद 1 गिलास पानी में मिला कर पिए।

  • दिन में 2 से 3 बार इस होम रेमेडीज को करने पर पेशाब के संक्रमण से राहत मिलती है।

 

3. खट्टे फल खाए – Fruits

  1. खट्टे फलों में सिट्रिक एसिड पाया जाता है जो बैक्टीरिया ख़तम करने में मददगार है। यूरिन इन्फेक्शन दूर करना है तो खट्टे फल खाए और रस भी पिए।
  2. संतरा, आंवला और नींबू भी फायदेमंद है। नींबू पानी यूरिन इन्फेक्शन से बचने और uti treatment में बेहद उपयोगी है।
  3. खट्टे फलों में विटामिन सी अधिक होता है जो एक तरह से नेचुरल एंटीऑक्सीडेंट है। शरीर से विटामिन सी फ्री रेडिकल्स को नष्ट करके इम्यूनिटी को बढ़ाता है।

 

4. बेकिंग सोडा – Baking Soda

  • शरीर में एसिड का संतुलन बनाने में बेकिंग सोडा असरदार है। Urine infection ka ilaj के लिए आधा चम्मच बेकिंग सोडा एक गिलास पानी में मिलाकर दिन में दो बार पिए।

 

5. क्रैनबेरी जूस – Cranberry Juice

 

6. अनानास – Pineapple

  • पेशाब संक्रमण का उपचार में अनानास भी कारगर है। अनानास गुप्त अंग से बैक्टीरिया ख़तम करने में मदद करता है। इसे आप ऐसे भी खा सकते है और इसका रस भी पी सकते है।

 

7. लस्सी – Butter Milk

  • लस्सी को छाछ भी कहते है, ये बैक्टीरिया को ब्लैडर से बाहर निकालता है और साथ ही पेशाब की जलन से भी छुटकारा मिलता है।
  • यूरिन ट्रैक इन्फेक्शन में दही का सेवन भी अच्छा gharelu upay है। दही से शरीर में अच्छे बैक्टीरिया जाते है।
  • इन्फेक्शन के वक़्त प्याज का सेवन करना भी उत्तम है। प्याज शरीर से टॉक्सिन्स बाहर निकालने का काम करता है।

 

यूरिन इन्फेक्शन से बचने के उपाय इन हिंदी

  1. पेशाब लगने पर उसे रोकना नहीं चाहिए। पेशाब रोकने से इंफेक्शन का ख़तरा बढ़ जाता है।
  2. यूरिन इन्फेक्शन से बचने के लिए ज्यादा पानी पिए।
  3. संभोग के बाद पेशाब अवश्य करे और गुप्त अंग को ठीक से साफ़ करे। इससे गुप्त अंग पर बैक्टीरिया जमा नहीं  होंगे।
  4. ऐसी जगह पे पेशाब नहीं करना चाहिए जहाँ गंदगी ज्यादा हो।
  5. Urine tract infection tips in hindi, यूरिन में इन्फेक्शन होने पर कॉफ़ी, चाय और चॉक्लेट नहीं खाना चाहिए
  6. पब्लिक शौचालय में पेशाब करने से पहले एक बार फ्लश चलाए फिर 2 मिनट रुक कर पेशाब करे।
  7. बाथरूम हमेशा साफ़ सुथरा रखे।
  8. हर रोज नहाए और अपने गुप्त अंग को भी साफ करे।

 

स्पाइनल कॉर्ड इंजरी में यूरिन ट्रैक इन्फेक्शन – Spinal Cord Injury UTI

स्पाइनल कॉर्ड इंजरी मतलब रीढ़ की हड्डी में चोट, जिस कारण चोट के नीचे बॉडी को paralysis हो जाता है। ऐसी स्थिति में शरीर के प्रभावित अंगों पर कंट्रोल नहीं रहता। जैसे की छूने पर महसूस न होना, हाथ पैर ना हिलना, लैटरिंग और बाथरूम का पता ना लगना।

  • SCI होने के बाद पेशाब करने के अन्य तरीके प्रयोग करने पड़ते है जैसे की bladder में पाइप डालना, कंडोम कैथिटर लगाना।
  • इन तरीक़ो से यूरिन इंफेक्शन का ख़तरा अधिक होता है। इसलिए इनके इस्तेमाल से पहले इन्हें साफ़ करना चाहिए ताकि इन पर जमा बैक्टीरिया निकल जाए।

 

यूरिन इन्फेक्शन टिप्स इन हिंदी

  • दादी माँ के नुस्खे फॉर यूरिन इन्फेक्शन इन हिंदी वैसे तो आयुर्वेद से ही प्रेरित होते है पर कुछ अन्य आयुर्वेदिक दवा भी है जो यूरिन इन्फेक्शन के ट्रीटमेंट में कारगर है। ये दवाएं आप baba ramdev patanjali के स्टोर से ले सकते है। इनके सेवन से पूर्व इनके बारे में जानकारी ज़रूर ले।
  • होम्योपैथिक मेडिसिन से भी यूरिन इन्फेक्शन का उपचार संभव है। इसके लिए होमियोपैथी डॉक्टर से मिले वे आप के रोग को पूरी तरह जानने के बाद दवा देंगे।

 

दोस्तों यूरिन इन्फेक्शन का घरेलू इलाज और उपाय, Home remedies for urine infection treatment in hindi का ये लेख कैसा लगा हमें बताये और अगर आपके पास पेशाब में सक्रमण, जलन और दर्द के ट्रीटमेंट के लिए घरेलू नुस्खे है तो हमें लिखे।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!