थायराइड के लक्षण कारण इलाज आसान उपाय और दवा से उपचार

थायराइड के लक्षण कारण इलाज की दवा और घरेलू उपचार इन हिंदी: थायराइड हमारे गले की एक ग्रंथि है जो थय्रोक्सिन हार्मोन्स बनाती है। महिलाओं में थायराइड की समस्या पुरुषों व बच्चों की तुलना में अधिक होती है। थाइरोइड 2 प्रकार का होता है हाइपर थायराइड और हाइपोथायरायडिज्म। अगर इनके शुरुआती लक्षण पहचान कर दवा और उपाय किये जाये तो इस रोग को बढ़ने से रोक सकते है। कुछ लोग थायराइड का उपचार के लिए medicine का सहारा लेते है पर अंग्रेजी दवा इस रोग को जड़ से खत्म करने में अचूक नहीं है। थाइरोइड ट्रीटमेंट हम बिना दवा के देसी घरेलू नुस्खे और रामबाण आयुर्वेदिक इलाज अपना कर नेचुरल तरीके से भी कर सकते है। इसके इलावा बाबा रामदेव पतंजलि की दवा और होम्योपैथिक मेडिसिन से भी थायराइड को कम करने के उपाय किये जा सकते है। आज इस लेख में हम जानेंगे symptoms, natural home remedies (gharelu nuskhe) and ayurvedic treatment for thyroid in hindi.

थायराइड का उपचार इलाज दवा और लक्षण, Thyroid in ka ilaj hindi

 

महिलाओं और पुरुषों में थायराइड के प्रमुख लक्षण – Thyroid Ke Lakshan in Hindi

  • थायराइड के शुरूआती लक्षणों में गंजापन, बालों का झड़ना, नाखून रूखे व पतले होना प्रमुख है।
  • इस रोग में बॉडी की इम्युनिटी कमजोर हो जाती है जिससे रोगों से लड़ने की शक्ति कम होने लगती है।
  • हाइपर थायराइड के लक्षण में वजन कम होना, हार्ट बीट का तेज होना, पसीना ज्यादा आना और हाथ पैर में कपकपी होना।
  • हाइपोथायरायडिज्म के लक्षण मोटापा बढ़ना, कब्ज, स्किन रूखी होना, आँखों और चेहरे पर सूजन, सिर गर्दन व जोड़ों में दर्द।
  • अगर थायराइड के सिम्पटम्स दिख रहे है तो सबसे पहले इसका टेस्ट करवाए। T3, T4, TSH टेस्ट से थायराइड लेवल चेक होता है।

 

थायराइड रोग के कारण – Thyroid Hone Ke Karan

  • घर में अगर किसी को ये रोग हो तो घर के अन्य सदस्यों में भी ये रोग होने की संभावना अधिक होती है।
  • कई बार किसी मेडिसिन के साइड इफ़ेक्ट करने से भी पुरुषों और महिलाओं को ये समस्या हो जाती है।
  • प्रेगनेंसी (pregnancy) के दौरान गर्भवती महिला के शरीर में हार्मोन्स में कई बदलाव आते है जिस वजह से थाइरोइड की संभावना बढ़ जाती है।
  • प्रोटीन पाउडर टेबलेट या फिर कैप्सूल के रूप में सोया उत्पाद का ज्यादा सेवन करना भी थायराइड होने का कारण बन सकता है।
  • ज्यादा तनाव लेना, प्रदूषण कुछ ऐसे कारण है जो इस रोग की संभावना को बढ़ाते है।

 

थायराइड का इलाज के घरेलू नुस्खे उपचार और दवा

Thyroid Ka ilaj Gharelu Nuskhe Upchar Dawa in Hindi

 

1. लौकी का जूस हर रोज सुबह खाली पेट पीने से थायराइड जड़ से खत्म करने में मदद मिलती है। जूस पीने के आधा घंटा पहले और बाद कुछ ना खाएं पिए।

2. थायराइड कम करने के उपाय में हल्दी वाला दूध पीने से काफी फायदा मिलता है। रोजाना हल्दी को दूध में पका कर पिए और अगर हल्दी का दूध ना पिया जाये तो हल्दी भून कर भी इसका सेवन कर सकते है।

3. हरा धनिया thyroid treatment में एक अच्छी होम रेमेडी है। हरे धनिया को पीस कर इसकी चटनी बनाये। अब 1 चम्मच चटनी 1 गिलास पानी में घोल कर पिए। हर रोज सही तरीके से इस घरेलू नुस्खे को करने पर थायराइड कंट्रोल में रहता है।

4. थायराइड का अचूक और रामबाण इलाज करने में एलोवेरा और तुलसी भी असरदार है। आधा चम्मच एलोवेरा का जूस 2 चम्मच तुलसी के रस में मिला कर सेवन करे।

5. हर रोज 3 से 4 लीटर पानी और 1 से 2 गिलास तक फलों का जूस पीना चाहिए। इससे शरीर से विषैले पदार्थ बाहर निकलते है।

6. अखरोट और बादाम में सेलिनियम होता है, इसके सेवन से गले की सूजन में आराम मिलता है। Hypothyroid के इलाज में ये काफी उपयोगी है।

7. थायराइड की दवा पतंजलि से भी ले सकते है। बाबा रामदेव के अनुसार दिव्य कांचनार गुग्गुल थायराइड से छुटकारा पाने में अचूक है। ये thyroid medicine टेबलेट के रूप में भी आती है।

8. हर रोज रात को सोने से पहले गाय के गुनगुने दूध में 1 चम्मच अश्वगंधा चूर्ण मिला कर पिए। अश्वगंधा इस रोग के घरेलू ट्रीटमेंट में आयुर्वेदिक दवा का काम करती है इसे आप patanjali या पंसारी से ले सकते है।

9. होम्योपैथिक मेडिसिन भी थायराइड का उपचार करने में कारगर है। थायराइड की होम्योपैथिक दवा में प्रमुख नाम है Iodum 30, Thyroidinum 30, Rakwage R5, Belladonna 30.

10. ये थाइरोइड मेडिसिन लेने से पहले किसी homeopathic डॉक्टर से मिले और अपनी समस्या के अनुसार ये दवाएं लेने का सही तरीका और सही मात्रा विस्तार में जाने।

11. इस प्रॉब्लम से प्रभावित महिला और पुरुष को अपने आहार में vitamin A अधिक लेना चाहिए। गाजर और हरी सब्जियों में विटामिन ए ज्यादा होता है इससे थायराइड ठीक करने में मदद मिलती है।

12. थायराइड के रोग में आयोडीन सही मात्रा में ले और जितना हो नेचुरल तरीके से आयोडीन का सेवन करे जैसे प्याज, लहसुन और टमाटर।

 

थायराइड ट्रीटमेंट टिप्स इन हिंदी – Thyroid Home Treatment in Hindi

  • थायराइड में क्या खाएं और क्या नहीं खाना चाहिए इस बात का ध्यान रखना भी बेहद जरूरी है। सही तरीके से परहेज और इलाज से इस रोग को जड़ से खत्म कर सकते है।
  • महिलाओं में थाइरोइड की प्रॉब्लम ज्यादा होती है और अक्सर प्रेगनेंसी में भी कुछ महिलाओं को ये समस्या हो जाती है। इसलिए थायराइड के लक्षण दिखते ही तुरंत उपचार शुरू करना चाहिए।
  • योग और एक्सरसाइज से भी हाइपोथायराइड और हाइपर थायराइड का इलाज करने में मदद मिलती है। थायराइड के लिए योग में मत्स्यासन, विपरीतकरणी और उज्जयी प्राणायाम करने से फायदा मिलता है।
  • ज्यादा तनाव लेने से भी बचे। तनाव से थाइरोइड की ग्रंथि पर बुरा असर पड़ता है।
  • धूम्रपान, शराब और किसी भी प्रकार की बुरी लत से दूर रहे।
  • सफेद नमक के प्रयोग की बजाय अपने आहार में काला या सेंधा नमक प्रयोग करे।
  • थायराइड 1 दिन या 1 हफ्ते में ठीक होने वाली बीमारी नहीं है इसलिए जरुरी है की ठीक होने के लिए आप नियमित रूप से दवा और उपचार करते रहे।

 

दोस्तों थायराइड का इलाज लक्षण कारण उपचार और दवा, Thyroid ka ilaj gharelu nuskhe upchar dawa in hindi का ये लेख कैसा लगा हमें बताये और अगर आपके पास थायराइड कम करने के उपाय की देसी दवा रामबाण घरेलू नुस्खे होम्योपैथिक मेडिसिन और अचूक आयुर्वेदिक ट्रीटमेंट है तो हमारे साथ साँझा करे।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!