प्रेगनेंसी के शुरुआती 10 लक्षण से जाने महिला प्रेग्नेंट है या नहीं

प्रेगनेंसी (गर्भावस्था) के लक्षण क्या है इन हिंदी: प्रेग्नेंट होने का कैसे पता चलता है, लड़की प्रेग्नेंट है या नहीं कैसे पता करे। अगर आपके मन में भी गर्भावस्था की पहचान और प्रारंभिक लक्षण से जुड़े सवाल है तो इस लेख को ध्यान से पढ़े। ज्यादातर महिलाएं पीरियड ना होने को प्रेगनेंसी के सिम्पटम्स मानती है पर इसके इलावा कुछ लक्षण और भी है जिससे गर्भवती होने की पहचान कर सकते है। शुरू के पहले और दूसरे हफ्ते में प्रेग्नेंट होने के लक्षण कम दिखते है पर अगर फर्स्ट वीक से फर्स्ट मंथ में प्रेगनेंसी का पता लग जाए तो समय पर ज़रूरी उपाय किये जा सकते है, जैसे की जो लड़की व महिला गर्भवती होना नहीं चाहती वो शुरुआती लक्षण देख कर प्रेग्नेंट होने से बच सकते है। आज इस लेख में हम जानेंगे प्रेगनेंसी के पहले हफ्ते व पहले महीने के लक्षण क्या होते है, after missed period starting pregnancy symptoms in hindi first week and first month.

प्रेगनेंसी के लक्षण क्या है, Pregnancy ke lakshan in hindi

 

गर्भावस्था का पहला साप्ताह – First week pregnancy in hindi

  • गर्भावस्था के पहले महीने में महिला के शरीर में कई बदलाव चल रहे होते है पर शरीर के बाहर कोई बदलाव नहीं होता।
  • पहले सप्ताह में महिला के गर्भ में भ्रूण बनने की शुरुआत होती है पर उसका विकास होना शुरू नहीं होता।
  • आम दिनों में महिला को period समय पर या फिर थोड़ा आगे पीछे होते है पर प्रेगनेंसी के दौरान पीरियड मिस होना सबसे पहला लक्षण है।

 

प्रेगनेंसी के लक्षण क्या है

Pregnancy Symptoms in Hindi

 

गर्भ ठहरने के शुरुआती लक्षण देख कर आप गर्भावस्था की पहचान कर सकती है और फिर टेस्ट से इसकी पुष्टि हो सकती है। आइये जाने प्रेगनेंसी के पहले हफ्ते के लक्षण क्या होते है।

 

1. पीरियड ना आना – Missed Period

1. प्रेगनेंसी के शुरुआती लक्षण पीरियड से पता चल सकते है, गर्भ ठहरने के बाद महिला को पीरियड आना रुक जाते है।

2. अगर आपको प्रेग्नेंट होने की संभावना लग रही है और आप को पीरियड भी नहीं हो रहे है तो ये प्रेगनेंसी के संकेत हो सकते है।

3. कुछ महिलाओं को शुरू के 2 हफ्ते में हल्की ब्लीडिंग भी हो जाती है पर सिर्फ़ माहवारी ना आने के आधार पर महिला के गर्भवती होने की पुष्टि नहीं कर सकते क्यूंकि पीरियड मिस होने के और भी कई कारण हो सकते है।

 

2. जी मिचलाना और उल्टी आना

पीरियड बंद होने के बाद 2 हफ्ते में उल्टी आने और जी मिचलाना जैसी समस्या होने लगती है। इस आधार पर भी गर्भधारण का पता चल सकता है।

 

3. पेट में गैस बनना व सिने में जलन होना

  1. प्रेग्नेंट महिला के शरीर मे हो रहे बदलाव का असर पाचन क्रिया पर भी पड़ता है जिससे पेट में गैस की शिकायत अधिक होती है। पेट में गैस बनने की समस्या 1 week से 9 month तक रह सकती है।
  2. पाचन क्रिया में बदलाव आने से सीने मे जलन होना भी आम है, ऐसे में आप अचानक से छाती में जलन महसूस भी कर सकते है।

 

4. मुंह का स्वाद बदलना

  • प्रेगनेंसी के पहले महीने मुंह का टेस्ट कड़वा हो जाता है। ऐसे में जो कुछ भी खाते पीते है उसका जायका नहीं मिलता, सिर्फ खट्टी चीजों का स्वाद ही पहचान पाते है।

 

5. कब्ज की शिकायत

प्रेगनेंसी के दौरान शरीर में हार्मोन में बदलाव होने के कारण पाचन शक्ति कमजोर होने लगती है और ऐसी स्थिति में महिला को कई बार कब्ज होना और ठीक से पेट साफ ना होना जेसी समस्या भी आने लगती है।

 

6. पेशाब अधिक आना

  • गर्भावस्था के दौरान शरीर में चल रहे हार्मोंस में बदलाव की वजह से किडनी में रक्त का प्रवाह तेज होने लगता है और मूत्राशय में पेशाब जल्दी भर जाता है, जिस कारण पेशाब बार बार होने की समस्या आती है।
  • बार बार पेशाब आना प्रेगनेंसी सिम्पटम्स में से एक है और जैसे जैसे बच्चे का विकास होगा ये परेशानी भी बढ़ने लगती है।

 

7. ब्रेस्ट में बदलाव आना

  • महिला के स्तनों का आकार बदलना भी गर्भावस्था के प्रारंभिक लक्षण है। प्रेगनेंसी के फर्स्ट 2 वीक में ब्रेस्ट में हल्की सूजन आने लगती है जिससे उनके आकार में फरक नज़र आने लगता है।
  • स्तन मुलायम व सूजन दिखने पर प्रेगनेंसी टेस्ट से इसकी पुष्टि कर सकते है।

 

8. सिर दर्द रहना

शुरू के कुछ दिन सिर में दर्द रहना भी गर्भवती होने के संकेत हो सकते है। सिर में दर्द की समस्या हार्मोन्स में आए बदलाव की वजह से हो सकती है।

 

9. स्वभाव में परिवर्तन आना

  • गर्भावस्था में शुरुआती लक्षण दिखने के इलावा जल्दी गुस्सा आना, स्वभाव में चिड़चिड़ापन आना, तनाव में रहना और ज्यादा थकान होना भी आम है।
  • इस लेख में बताये हुए सिम्पटम्स में से अगर आप को कुछ दिख रहे है तो शुरुआत में घर पर ही घरेलू नुस्खे या किट की मदद से प्रेगनेंसी टेस्ट कर सकती है।

 

प्रेग्नेंट होने पर क्या करे और क्या नहीं करना चाहिए

  • शुरुआती लक्षण के आधार पर अगर आपको प्रेगनेंसी का पता चलता है तो सबसे पहले अपने खाने पीने पर ध्यान दे जैसे की धूम्रपान, शराब से परहेज करना चाहिए।
  • अधिक समय तक फ्रीज़ में रखा हुआ खाना ना खाएं और साथ ही कुछ भी ज्यादा गर्म और ज्यादा ठंडा खाने से भी बचे।
  • आहार में फल और सब्जियों का जूस शामिल करे।
  • प्रेगनेंसी के बाद डॉक्टर की सलाह से विटामिन बी का सेवन करे, इससे जन्म से ही बच्चा दिमाग व रीढ़ की हड्डी की समस्याओं से बचा रह सकता है।
  • अपने आहार में विटामिन, प्रोटीन और कैलोरी की मात्रा बढ़ाये पर विटामिन ए और सी कितनी मात्रा ले इस बारे में अपने डॉक्टर से राय ले।
  • प्रेग्नेंट होने का जैसे ही पता चलता है सबसे पहले डॉक्टर से मिले और अपनी दिनचर्या के बारे में बताए और अगर आप किसी रोग के इलाज के लिए कोई दवा लेते है तो उस बारे में भी बताये ताकि डॉक्टर आपको जरुरी सलाह दे सके।

 

दोस्तों प्रेगनेंसी के लक्षण इन फर्स्ट वीक और फर्स्ट मंथ, Starting pregnancy symptoms in hindi का ये लेख आपको कैसा लगा हमें बताये और अगर आपके पास पहले हफ्ते और महीने में गर्भावस्था के शुरुआती लक्षण व पीरियड के कितने दिन बाद प्रेग्नेंट होते है से जुड़े सुझाव है तो हमारे साथ सांझा करे।

You may also like...

1 Response

  1. rani says:

    My wife is a first month ki pregnancy hai.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!