पेट में दर्द होने के 5 प्रमुख कारण और आसान उपाय

पेट में दर्द (Pet Dard) के कारण और उपाय इन हिंदी: कब्ज रहना, सुबह ठीक से पेट साफ ना होना और गैस होने के कारण अक्सर पेट दर्द, मरोड़ और जलन की समस्या होती है। इसके इलावा भी कुछ ओर ऐसे कारण है जो पेट के बीच मे नाभि के पास, बाईं ओर पेट के ऊपरी भाग, पेट के दाहिने निचले हिस्से, राइट साइड और लेफ्ट साइड पेट में दर्द का कारण बनता है। वैसे तो दवा ले कर, गुनगुना पानी पी कर या फिर कुछ घरेलू नुस्खे और उपचार कर के पेट के दर्द को ठीक किया जा सकता है पर पेट में अलग अलग हिस्से पर बार बार दर्द होना किसी गंभीर रोग के लक्षण भी हो सकते है ओर ऐसी स्थिति में खुद से इलाज करने से पहले डॉक्टर से भी ट्रीटमेंट की सलाह ले। आज इस लेख में हम पेट के अलग अलग हिस्से में दर्द का कारण जानेंगे, causes of stomach pain in left side and right side in hindi.

पेट में दर्द के कारण और उपाय, Pet me dard ka karan in hindi

 

पेट दर्द होने के कुछ मुख्य कारण

  • ऐसा जरुरी नहीं की हर बार किसी रोग की वजह से ही पेट में दर्द हो रहा है। कई बार ज्यादा खाना खाने के बाद या फिर खाने पीने का तरीका गलत होने से भी पेट दर्द की समस्या होती है।
  • बार बार पेट दर्द की शिकायत होने पर अल्ट्रासाउंड और कुछ अन्य टेस्ट से पेट की जाँच होती है जिससे बीमारी को पहचान कर इलाज करने में आसानी होती है।

 

पेट में दर्द के कारण और उपाय

Pet Me Dard Ka Karan Aur Upay in Hindi

 

1. बाईं ओर पेट दर्द का कारण – Pet Me Left Side Dard in Hindi

1. पेट दर्द बाईं ओर हो रहा है तो ये किडनी में पथरी के लक्षण में से एक है। अगर आप को बाईं ओर पेट के ऊपरी हिस्से में दर्द है तो डॉक्टर से मिले क्यूंकि अगर पथरी की समस्या हो तो बढ़ने से पहले ही इसका इलाज किया जा सके।

2. शुरुआत में दर्द के इलाज के लिए कुछ लोग मेडिसिन लेते है पर दवा के असर कम होने के बाद दर्द फिर से होने लगता है जिससे बचने के लिए जल्दी पथरी का उपचार करना चाहिए।

3. देसी घरेलू नुस्खे और आयुर्वेदिक दवा से भी पथरी को ठीक किया जा सकता है।

 

2. पेट के दाहिने हिस्से में दर्द – Pet Ke Right Side Me Dard

1. दाई ओर पेट के ऊपरी हिस्से में गॉल ब्लैडर और लिवर होता है और इस भाग में दर्द होने का मतलब है लिवर या गॉल ब्लैडर में कोई तकलीफ होना, जैसे लिवर की कमजोरी, खराबी या गॉल ब्लैडर में स्टोन होना।

2. पेट के राइट साइड में अगर निचले हिस्से में दर्द हो रहा है तो ये अपेंडिक्स के कारण हो सकता है।

3. महिलाओं में right side पेट में दर्द होना अंडाशय की खराबी होने के लक्षण हो सकते है।

 

3. पेट के बीच नाभि के पास दर्द होना

  • नाभि के पास पेट के बीच में दर्द हो रहा हो तो ये गैस और अल्सर हो सकता है। दर्द निवारक दवाओं के अधिक सेवन और बैक्टीरियल इन्फेक्शन की वजह से ये समस्या ज्यादा होती है।
  • छाछ, दही, नींबू पानी और गुड के सेवन से इस रोग में राहत मिलती है और अगर उपाय करने के बाद भी दर्द से छुटकारा नहीं मिले तो तुरंत किसी डॉक्टर से मिले।

 

4. पेट के निचले भाग में दर्द करना

  • पेट के नीचे वाले हिस्से में दर्द होना यूरिन इन्फेक्शन या ब्लैडर में इन्फेक्शन के लक्षण हो सकते है।
  • महिलाओं में पीरियड्स के दौरान भी अक्सर पेट के नीचे वाले भाग में दर्द होता है।
  • नाभि खिसकने की वजह से भी पेट के बीच और निचले हिस्से में दर्द होने लगता है।

 

5. पेट के ऊपरी हिस्से में दर्द और जलन होना 

1. पेट के ऊपरी भाग में दर्द और जलन की समस्या एसिडिटी, गैस, खराब पाचन और बदहजमी के कारण होती है।

2. ज्यादा पानी पीना, ठंडा दूध पीना और अदरक चबाना कुछ ऐसे उपाय है जो इस रोग को दूर करने में उपयोगी है।

 

पेट दर्द में क्या खाना चाहिए – Pet Dard Me Kya Khaye in Hindi

  • ज्यादा तला और मसालेदार खाना पेट की परेशानी ओर बढ़ा सकते है इसलिए जल्दी पचने वाला हल्का भोजन ही खाये।
  • केले में पोटाशियम अधिक मात्रा में होता है जो पेट दर्द, मरोड़, दस्त और उल्टी की समस्या में राहत पाने के लिए अचूक उपाय है।
  • पाचन तंत्र स्वस्थ रखने व कब्ज जैसे रोग दूर करने में पपीता खाने से काफी फायदा मिलता है।
  • नारियल पानी पेट से जुड़ी कई बीमरियों से छुटकारा पाने का रामबाण इलाज है।
  • अदरक के छोटे से टुकड़े को चबाने पर पेट दर्द और उल्टी में आराम मिलता है।
  • पानी अधिक पिए और सोडा व कोल्ड ड्रिंक जैसे पेय से परहेज करे।

 

दोस्तों पेट में दर्द के कारण इलाज और उपाय, Pet me dard ka karan aur upay in hindi का ये लेख कैसा लगा हमें बताये और अगर आपके पास बाईं ओर पेट के दाहिने हिस्से में दर्द, लेफ्ट साइड, राइट साइड पेट दर्द होने के कारण और उपचार के घरेलू नुस्खे है तो हमारे साथ साँझा करे।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!