पेट दर्द जल्दी ठीक करने की अंग्रेजी व देसी दवा का नाम

पेट दर्द की दवा का नाम इन हिंदी: दोस्तों सिर दर्द ठीक करने के लिए हम घर पर तुरंत अंग्रेजी दवा ले लेते है क्यूंकि हमें मेडिसिन नाम मालूम होता है पर जब कभी पेट में दर्द गैस मरोड़ या कोई अन्य समस्या होती है तो अधिकतर लोगों को पेट दर्द की tablet का नाम ही नहीं पता होता। देखा जाये तो इसका एक फायदा ही है क्योंकि फिर हम देशी दवा व उपाय से उपचार करते है, जिससे बिना किसी नुकसान के दर्द से जल्दी राहत मिल जाती है। आज इस लेख में हम पेट दर्द का इलाज बाबा रामदेव आयुर्वेदिक दवा पतंजलि व घरेलू नुस्खे के बारे में जानेंगे,  baba ramdev gharelu nuskhe and ayurvedic medicine patanjali for stomach pain treatment in hindi.

बहुत से लोगों की एक आदत होती है कोई भी परेशानी हो या कहीं दर्द हो रहा हो तो झट से दर्द दूर करने की टेबलेट ले लेते है। बात बात पर गोली खाने से शरीर को नुकसान होता है। इसलिए दर्द चाहे पेट के ऊपरी हिस्से में हो, निचले हिस्से में या नाभि के पास हो बिना डॉक्टर की सलाह के दवाई न ले और साथ ही जितना हो सके रोगों के इलाज के लिए अंग्रेजी मेडिसिन लेने की बजाय आयुर्वेदिक तरीके अपनाये, इससे शरीर को नुकसान नहीं पहुँचता।

पेट दर्द की दवा का नाम, Pet dard ki ayurvedic dawa patanjali

 

पेट दर्द होने के कारण – Causes of Stomach Pain

पेट में कीड़े होना, अमाशय में अमल का ज्यादा बनना, जिगर का बढ़ना और पेट में बैक्टीरिया का फैलाव कुछ ऐसे कारण है जिनसे पेट में दर्द होने की शिकायत होती है। पेट दर्द के कुछ लक्षण निचे बताये गए है।

  • नाभि के ऊपर दर्द महसूस होने का कारण पेट में गैस बनना।
  • किडनी की समस्या होने पर नाभि की दाई तरफ दर्द होना है।
  • जिगर की तकलीफ होने से ऊपरी हिस्से और दाईं तरफ दर्द होता है।
  • आंतों में कीड़े पड़ना नाभि में दर्द होने का कारण है।

 

पेट दर्द की दवा का नाम और घरेलू इलाज

Pet Dard ki Dawa Gharelu Upay in Hindi

पेट दर्द जल्दी दूर करने के लिए पहले हमने देसी घरेलू नुस्खे, आयुर्वेदिक उपचार और योग से इलाज के तरीके जाने है। आज हम पेट के दर्द का इलाज की अंग्रेजी और देशी दवा के नाम के बारे में जानेंगे और साथ ही बाबा रामदेव के रामबाण नुस्खे भी पढ़ेंगे, pet dard ka gharelu upay aur dawa in hindi.

 

1. पेट दर्द की अंग्रेजी दवा – Allopathic Medicine Name

  • पेट में दर्द हो रहा हो या दस्त लगे हो अगर इसके इलाज के लिए आप एलोपैथी दवाई लेना चाहते है तो Spasmonil tablet का प्रयोग कर सकते है जो दर्द कम करने का काम करती है।
  • पेट की समस्या दूर करने के इलावा ये अंग्रेजी दवा, कान दर्द, दांतों का दर्द और जोड़ों के दर्द से आराम पाने में भी दी जाती है।
  • इस टेबलेट के साइड इफेक्ट्स में उल्टी आना, साँस फूलना, त्वचा पर लाल दाने निकलना और खारिश होना आता है। ये side effects सब को नहीं होते बस कुछ लोगों को होता है। अगर गोली लेने के बाद आपको इनमें से कोई भी लक्षण दिखे तो इसका सेवन ना करे।
  • इस दवा का सेवन करते समय शराब का सेवन न करे और इसे बच्चों की पहुँच से भी दूर रखे।
  • इस मेडिसिन का नाम सिर्फ आपकी जानकारी के लिए बताया गया है इसे लेने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले।
  • कभी कभी पेट दर्द किसी गंभीर रोग के कारण भी हो सकता है। लगातार पेट में तेज दर्द होने पर चिकित्सक से मिले और जाँच कराये।

 

2. पेट दर्द की आयुर्वेदिक दवा पतंजलि – Ayurvedic Medicine Patanjali

Pet dard ki ayurvedic dawa patanjali, अंग्रेजी मेडिसिन खाने से एक बार तो परेशानी कम हो जाती है पर ये रोग के कारणों को दूर नहीं करती। आयुर्वेदिक तरीके से इलाज करने पर समस्या का उपचार जड़ से किया जा सकता है। निचे हम कुछ पेट की आयुर्वेदिक दवाओं के नाम बता रहे है, इनके सेवन से पहले इन्हें लेने का सही तरीका जरुर जाने।

  1. अमृतधारा आयुर्वेदिक मेडिसिन
  2. पतंजलि त्रिफला चूर्ण
  3. दिव्य उदरकल्प चूर्ण
  4. दिव्य गैसहर चूर्ण
  5. पतंजलि दिव्य चूर्ण पाउडर

 

पेट दर्द का इलाज बाबा रामदेव – Baba Ramdev ke Nuskhe in Hindi

1. पेट के रोगों से बचने और इनके उपचार में दवाई लेने के इलावा पानी जादा मात्रा में पीना चाहिए। शरीर में पानी प्रयाप्त मात्रा में हो तो पेट की सफाई होती रहती है जिससे विषेले पदार्थ बाहर निकलते रहते है। पेट दर्द की समस्या का समाधान भी पानी है।

2. Pet dard ka ilaj baba ramdev in hindi, गौ मूत्र पेट की समस्यओं को दूर करने और रोकथाम के लिए एक कारगर देशी दवा है। पेट में मरोड़, बदहजमी, कब्ज, गैस और दर्द दूर करने के लिए नियमित रूप से गौ मूत्र का सेवन करे।

3. अमृत धारा की 4 बूंदे पताशे में डाल कर खाने से दर्द जल्दी ठीक होता है। ये आप पंसारी या पतंजलि स्टोर से ले सकते है।

4. अजवाइन कई प्रकार की stomach problems में सबसे आसान और जल्दी किया जाने वाला घरेलू ट्रीटमेंट है। पेट दर्द से छुटकारा पाने के लिए अजवाइन चूर्ण खाए और ऊपर से गर्म पानी पिए।

5. अशवगन्धा चूर्ण 3 ग्राम ले और गुनगुने पानी के साथ इसका सेवन करने से पेट का दर्द दूर होने लगता है। पतंजलि त्रिफला चूर्ण भी पेट दर्द दूर करने का एक कारगर आयुर्वेदिक उपचार है।

6. पेट दर्द की दवा बाबा रामदेव में मेथी के दाने रामबाण का काम करते है। इन्हें हल्का भुन कर पीस ले और पाउडर बना ले। जब कभी पेट में दर्द हो इस का सेवन गुनगुने पानी के साथ करे। इस नुस्खे से पेट दर्द तुरंत कम होने लगेगा।

7. हिंग 2 ग्राम, काला नमक 3 ग्राम, अजवाइन 10 ग्राम और हिंग 2 ग्राम ले और सब को पीस कर चूर्ण बना ले। इस desi dawa का 1/2 चम्मच गुनगुने पानी के साथ ले।

8. एसिडिटी, कब्ज और पेट दर्द से बचने के लिए प्रतिदिन खाना खाने के बाद सौंफ में मिश्री मिला कर खाना चाहिए। सौंफ का पानी पिने से पेट के दर्द में राहत मिलती है।

9. पेट का दर्द तुरंत दूर करने के लिए थोड़ी से अजवाइन, चुटकी भर हिंग और दो चुटकी काली मिर्च मिला कर पीस ले और अपना पेट दर्द निवारक चूर्ण बना ले। अब इस चूरण को अदरक के रस के साथ मिलाये और शहद के साथ चाटे। इस होम रेमेडीज को करने के कुछ ही देर में दर्द से राहत मिलने लगेगी।

10. नाभि पर अदरक का रस लगा कर हल्की मालिश से पेट दर्द में आराम मिलता है।

 

बच्चों के पेट दर्द का घरेलू उपचार

  1. बच्चों के पेट में दर्द की शिकायत होना आम है और इसका एक कारण पेट में कीड़े होना और ख़राब पाचन भी हो सकता है। अगर भोजन करते समय बच्चा बार बार पानी पिए तो उसे ऐसा करने से रोके। इससे अपचन की समस्या होती है जिससे खाना ठीक से नहीं पच पाता। बच्चे को खाने के बाद 2 – 3 घूंट पानी को दे फिर 45 मिनट बाद ही पानी पिलाये।
  2. चावल का पानी पिने से भी दर्द में जल्दी रहत मिलती है। Stomach pain relief के लिए ये उपाय बड़ों और बच्चों में किसी भी उम्र का व्यक्ति कर सकता है।
  3. कब्ज के कारण अगर बच्चे के पेट में दर्द हो रहा है तो गूढ़ और अजमा दोनों को मिला कर बच्चे को खिलाये दर्द जल्दी दूर होगा।
  4. आधा कप पानी गुनगुना करे और इसमें थोड़ा शहद मिला कर बच्चे को पिलाये। ये घरेलू उपाय बच्चों के पेट दर्द की दवाई की तरह काम करता है।
  5. गैस के कारण अगर बच्चे के पेट में दर्द हो रहा हो तो बच्चे को पेट के बल लेटा ले और पीठ थप थपाये फिर सीधे करके पेट पर तेल की मालिश करे।

 

पेट दर्द में क्या खाये और क्या न खाये

  • सुबह खाली पेट आधे से एक लीटर पानी पिए और इसके 45 मिनट के बाद ही कुछ खाए।
  • दही खाना पेट के रोगों में उतम उपाय है। दही से हमारे शरीर में अच्छे बैक्टीरिया जाते है साथ ही इससे पेट में ठंडक बनी रहती है।
  • छाछ पीना भी उतना ही लाभदायक है जितना की दही खाना। अगर दही ना मिले तो छाछ पिए।
  • मूंग की खिचड़ी, मूंग दाल, दलिया व मूली खाए।
  • पेट से संबंधित कोई भी समस्या हो रोगी को हमेशा हल्का आहार ही लेना चाहिए। ऐसी स्थिति में पाचन तंत्र कमजोर होता है, इसलिए भारी भोजन ठीक से पचता नहीं है जिससे समस्या और बढ़ सकती है।
  • जादा मिर्च मसालेदार व तला हुआ खाने से परहेज करे।
  • धुम्रपान, तम्बाकू और शराब के सेवन से दूर रहे।

 

दोस्तों पेट दर्द की दवा का नाम हिंदी में, Pet dard ki dawa patanjali medicine name in hindi का ये लेख कैसा लगा हमें बताये और अगर आपके पास पेट में दर्द का इलाज के घरेलू उपाय, आयुर्वेदिक नुस्खे, देसी दवा से उपचार के तरीके है तो हमारे साथ साँझा करे।

You may also like...

7 Responses

  1. बर्मन विवेक says:

    सर नमस्कार,
    कृपया मुझे नाभि या धरण का अपने नियत स्थान से हट जाना खिसक जाने का स्थाई उपचार बताएँ।
    सर मैंने बहुत दवाई करवाई है पर यह ठीक नहीँ होता है, केवल मालिश से ठीक होता है।
    कृपया यथोचित मार्ग प्रसस्थ करें ताकि इस भयावह और पीड़ादायक व्याधि से मैं मुक्त हो सकूँ। दवाई के साथ योग या आसन भी बताएँ।
    धन्यवाद

    • Admin says:

      नाभि का खिसकना ठीक करने के उपाय और अन्य घरेलू तरीके से सम्बंधित हम जल्दी ही एक लेख साँझा करने का प्रयास करेंगे.

  2. शशिकांत मीना says:

    सर मेरी वाइफ को गैस की समस्या है इलाज बताइये। नाभि के ऊपर दर्द होता है और पेट पैर आफरा सा रहता है.

  3. भरत चौरहा जैतूपुरा says:

    मेरे पेट में गैस बनती है और भूख नहीं लगती है इसकी कोई दवा बताये.

  4. Ganga says:

    Pyas jyada nhi lagti hai iska upay.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!