खांसी का इलाज 10 आसान उपाय और घरेलू नुस्खे – Khansi ka ilaj in hindi

खांसी का इलाज इन हिंदी: खांसी गले का रोग है जो छाती में जमा कफ, फेफड़ों, सांस की नली और गले में इंफेक्शन के कारण होती है। छाती और सांस से संबंधित कोई भी रोग हो खांसी की शिकायत होना आम है। आमतौर पर खांसी दो तरीके की हो सकती है, बलगम वाली खांसी जिसे हम कफ वाली खांसी भी कहते है और सूखी खांसी। Khansi rokne ke ट्रीटमेंट के लिए बाजार में कई प्रकार की दवाएं मौजूद है पर बिना डॉक्टर की सलाह कोई दवा लेना ठीक नहीं है। बच्चों की खांसी हो या बड़ों की पुरानी खांसी हो आयुर्वेदिक नुस्खे से खांसी का उपचार घर पर बिना मेडिसिन के किया जा सकता है। आज इस लेख में हम जानेंगे घरेलू उपाय और देसी नुस्खे अपना कर सूखी और कफ वाली खांसी दूर करने के उपाय कैसे करे, natural ayurvedic treatment tips and home remedies for cough (khansi) in hindi.

खांसी का इलाज के घरेलू नुस्खे उपाय, Khansi ka ilaj in hindi

 

खांसी होने का कारण : Causes of Cough

  • धूम्रपान जादा करना
  • सर्दी, फ्लू, वायरल इंफेक्शन
  • गले में कैंसर, फेफड़ों में कैंसर
  • धूल मिट्टी के संपर्क में अधिक रहना
  • टी बी, अस्थमा या कोई गंभीर रोग से प्रभावित होना

 

खांसी का इलाज के घरेलू उपाय और देसी नुस्खे

Khansi ka ilaj Gharelu Upay aur Nuskhe in Hindi

  1. अदरक का एक छोटा सा टुकड़ा चूसने से कुछ देर में ही खांसी होना बंद हो जाएगी।
  2. काली खांसी का देसी इलाज के लिए एक चम्मच अदरक का रस और एक चम्मच पान का रस मिलाकर शहद या गुड़ इसमें डाल दे। अब इस मिश्रण को गुनगुना कर के इसका सेवन करे। कुछ ही मिनटों में खांसी आना बंद हो जायेगा। खांसी जल्दी ठीक करने के लिए ये एक अचूक दवा है।
  3. आनर के रस को हल्का गुनगुना कर के इसका सेवन करने से भी खांसी दूर होती है।
  4. Khansi ka gharelu ilaj in hindi, काली मिर्च को मुंह में रख कर चूसने से बी खांसी में आराम मिलता है।
  5. खांसी दूर करने के लिए शहद दवा से भी जादा असरदार है। बच्चों और बड़ों दोनों के लिए ये उपाय फायदेमंद है। दिन में तीन बार एक चम्मच शहद सेवन करने से खांसी ठीक होती है। रात को सोते समय खांसी आती हो तो सोने से पहले एक चम्मच शहद का सेवन करे।
  6. एक चौथाई चम्मच दालचीनी पाउडर आधा चम्मच शहद में मिलाकर सेवन करने से sukhi khansi ठीक होती है।
  7. रात को खांसी बार बार हो तो मुंह में लौंग रख कर इसे चबाए कुछ देर में ही खांसी बंद हो जाएगी। तुलसी की चाय के सेवन से भी खांसी रोकने में आराम मिलता है।
  8. गले में कफ हो तो गुनगुना पानी पिए, इससे बलगम साफ़ हो जाती है और गले की सूजन से भी आराम मिलता है।
  9. खांसी के घरेलू उपचार का ये बहुत बढ़ियां और आसान तरीका है। आधा चम्मच शहद आधा चम्मच प्याज के रस में मिला कर ले।
  10. सूखी खांसी से छुटकारा पाने के लिए तुलसी, अदरक और काली मिर्च से बना हुआ काढ़ा पिए। देसी घी से बना हुआ बेसन का हलवा खाने से भी सुखी खांसी दूर होती है।

 

गले के रोग का रामबाण देसी इलाज: Ayurvedic treatment for khansi in hindi

गले में खराश, दर्द, टॉन्सिल्स, खांसी, छाले, सूजन या गले में इंफेक्शन हुआ हो, इसका सबसे अच्छा आयुर्वेदिक इलाज है कच्ची हल्दी का प्रयोग। गले से जुडी कोई भी समस्या हो कच्ची हल्दी का रस 1/2 चम्मच ले और मुंह खोल कर सीधे गले में डाले और कुछ देर चुप बैठे। मुंह की लार के साथ ये रस गले से नीचे उतर जाएगा।

इस आयुर्वेदिक दवा (medicine)की एक ही खुराक से आपको काफ़ी आराम मिलेगा। सूखी खांसी हो, कफ वाली खांसी हो या फिर पुरानी काली खाँसी हो, ये उपाय करने के कुछ देर बाद ही आप फरक महसूस करने लगेंगे।

 

कफ वाली खांसी दूर करने के उपाय इन हिंदी

गले और छाती में कफ जमने से गले में खराश, गला बैठ जाना और cough जैसी शिकायत होने लगती है। कुछ छोटे छोटे घरेलू नुस्खे अपना कर आसानी से बलगम वाली खांसी के उपाय कर सकते है।

  1. गरम दूध पिने से कफ में राहत मिलती है।
  2. अदरक छील कर एक छोटा टुकड़ा मुंह में रख कर चूसने से कफ निकलने लगती है और गला साफ़ होता है।
  3. मुलेठी और सूखा आंवला पीस कर चूर्ण बना ले और मिलाकर रख ले। छाती में जमा कफ साफ़ करने के लिए इस चूर्ण का 1 चम्मच सुबह शाम खली पेट ले। अगर गले में छाले हो रहे हो तो इस चूर्ण में बराबर मात्रा में मिश्री मिला ले। अब 6 ग्राम चूर्ण 250 ग्राम दूध के साथ लेने से गले के छालों में जल्दी आराम मिलता है।

 

खांसी के उपचार में परहेज

  • दही, केला, चावल का सेवन ना करे।
  • तला और मसालेदार खाने से परहेज करे।
  • कोल्ड ड्रिंक, ठंडा पानी और फ़्रीज़ में रखी चीज़े खाने पिने से बचे।
  • कुछ भी गरम चीज़ खा पी कर तुरंत कोई ठंडी चीज़ ना खाए पिए।

 

खांसी रोकने के उपाय जो ऊपर बताये गए आपकी जानकारी के लिए है जो बड़ों के साथ साथ बच्चों के लिए भी उपयोगी है। अगर दवा और देसी इलाज करने के बाद भी cough ठीक नहीं हो रही हो तो डॉक्टर या आयुर्वेदिक चिकित्सक से मिलकर सलाह ले।

 

इस लेख में आपने बड़ों और बच्चों की कफ और सूखी खांसी का उपचार के उपाय और घरेलू दवा के बारे में जाना। दोस्तों खांसी का इलाज के उपाय, Khansi ka ilaj gharelu upay aur desi nuskhe in hindi का ये लेख आपको कैसा लगा कमेंट कर के बताये और अगर आपके पास पुरानी, काली, सुखी और बलगम वाली खांसी का तुरंत इलाज के लिए देसी नुस्खे से जुड़े अनुभव है तो हमारे साथ साँझा करे।

You may also like...

13 Responses

  1. Baldev says:

    Khansi or pair bass mousam badlte hi paresh hota hu achha ilj batae

    • Admin says:

      खांसी का इलाज आप घरेलू तरीके से कर सकते है। ऊपर बताये हुए उपाय और नुस्खे पढ़े ये सुखी और बलगम वाली खांसी से छुटकारा पाने में उपयोगी है।

  2. Rajan kumar says:

    Sir mujhe chest cough hai 2 year dava bhot ki par ja nahi rahi hai plz sir koi upay bata do

    • Admin says:

      घरेलू नुस्खे और आयुर्वेदिक उपचार से आप इस समस्या का इलाज कर सकते है, आप ऊपर लेख में बताये गए उपाय पढ़े.

  3. Vishnu Prasad Raidas says:

    sir muje bahut khasi h

    • Admin says:

      खांसी का इलाज के घऱेलू उपाय और नुस्खे ऊपर लेख में बताये गए है आप लेख पढ़े.

  4. pankaj says:

    Hi sir asthma ke liye behtar upchar bataye.

  5. Sanjeet kumar says:

    Mujhe teen mahina se khasi ho raha
    Iska koi upay bataye

  6. shivamkumar says:

    mere mummy ko 1 year se khasi aa rha hai mai bahot se doctor ko dikhya lekin kuch din thik rehta hai fir usi tarah ho jata hai meri mummy raat bhar so nhi pati hai please sir koi upay bataiye please help me.

    • Admin says:

      खांसी का इलाज के लिए उपाय और घरेलू उपचार ऊपर लेख में पढ़े और बार बार होने वाली खांसी से बचने के लिए खाने पिने में सावधानी बरते.

  7. Pami says:

    Mere 4 saal ka beta hai use 15 month se khansi ho rhi bhut dawai di fir bhi koi farak nhi hai. plz use kya du khansi thik ho jaye.

    • Admin says:

      खांसी का इलाज में दवा के साथ साथ खाने पिने में भी परहेज करना जरुरी है, और अगर उपाय करने के बाद भी अगर खांसी लम्बे समय से ठीक नहीं हो रही तो आयुर्वेदिक चिकित्सक से मिल कर सलाह ले.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!