कब्ज का इलाज की देसी आयुर्वेदिक दवा व रामबाण उपाय

कब्ज की आयुर्वेदिक दवा और घरेलू इलाज इन हिंदी: कब्ज़ को अंग्रेजी में constipation के नाम से जानते है। ख़राब पाचन तंत्र इस रोग का प्रमुख कारण है। कब्ज़ होने से सुबह पेट ठीक से साफ़ न होना की समस्या आती है और मल त्याग करते समय जादा जोर लगाना पड़ता है। कब्ज़ दूर करने के लिए कुछ लोग मेडिसिन लेते है तो कुछ लोग तरह तरह के पेट सफा चूर्ण प्रयोग करते है। पुरानी कब्ज हो या नयी आप घरेलू उपाय, देसी दवा और आयुर्वेदिक नुस्खे से इसका उपचार घर पर आसानी से कर सकते है। आइये जाने baba ramdev patanjali ayurvedic medicine, gharelu upay and desi nuskhe for kabj treatment in hindi.

एक स्वस्थ और सेहतमंद इंसान को कम से कम दिन में एक बार मल त्याग करना चाहिए लेकिन कब्ज़ की वजह से सही तरीके से पेट साफ़ नहीं होता जिस कारण व्यक्ति 2 से 3 दिन में मल त्याग को जाता है। जीवन में एक बार हर कोई कब्ज़ की समस्या का सामना करता ही है और आजकल खान पान सही न होने से पेट ठीक से साफ़ ना होना आम रोग हो गया है। कई बार कब्ज़ जल्दी दूर हो जाती है तो कई बार इसके इलाज के लिए उपाय करने की आवश्यकता होती है और अगर समय पर इस रोग का उपचार ना करे तो ये रोग बवासीर का कारण भी बन सकता है।

कब्ज की आयुर्वेदिक दवा और उपाय, Kabj ki ayurvedic dawa in hindi

 

कब्ज होने का कारण – Causes of Constipation

अगर आप को बार बार कब्ज़ होती है और इस समस्या से बचने के उपाय करना चाहते है तो यहां बताये हुए कारण पढ़े और अपनी दिनचर्या में इन्हें दोहराने से बचे।

  • पानी कम मात्रा में पीना कब्ज होने का बड़ा कारण है। कब्ज नई हो या पुरानी ट्रीटमेंट के इलावा इस बात का भी ध्यान रखे की आप पर्याप्त मात्रा में पानी पी रहे है या नहीं।
  • बात बात पर दर्द निवारक दवाई खाने से ख़राब पाचन की समस्या होने लगती है जिससे पेट में गैस और कब्ज की समस्या आने लगती है। इसलिए बिना चिकित्सक की सलाह की कोई भी medicine लेने से परहेज करना चाहिए।
  • ठंडी चीजों के अधिक सेवन से भी पेट ठीक से साफ़ न होने की समस्या होती है, जैसे की कोल्ड ड्रिंक, आइसक्रीम, पेस्ट्री, चॉकलेट आदि।
  • फ़ास्ट फ़ूड और डिब्बा बंद खाने में वसा की मात्रा ज्यादा होती है और इनके जादा सेवन से पाचन पर बुरा असर पड़ता है। कब्ज से प्रभावित व्यक्ति और महिला को ऐसे food नहीं खाने चाहिए।
  • जादा कॉफ़ी और चाय पीना भी कब्ज बनाता है।
  • सुबह मल त्याग के लिए जाने में आलस करना, भोजन कम लेने से मल का कम बनना और भूख ना लगना भी कुछ ऐसे कारण है जो पेट में कब्ज बनाते है।
  • बिल्कुल भी शारीरिक श्रम न करने से बॉडी का metabolism धीमा होने लगता है जिस कारण खाना सही तरीके से नहीं पचता और कब्ज़ जैसे रोग होने लगते है।

 

कब्ज की आयुर्वेदिक दवा और घरेलू इलाज

Kabj ki Ayurvedic Dawa ilaj aur Upay in Hindi

कब्ज मिटाने के सरल उपचार के लिए कुछ लोग दस्त वाली दवा और चूर्ण का उपयोग करते है पर ये सही तरीका नहीं है। कब्ज़ ठीक करनी है तो सबसे पहले इसके कारण दूर करने चाहिए। इसके इलावा आप जल्दी पेट साफ़ करने के लिए घरेलू नुस्खे और उपाय कर सकते है।

1. सोने से पहले रात को गरम दूध में 1 चम्मच घी डाल कर पिए। दूध में चीनी की बजाय शहद या फिर मिश्री प्रयोग करे। रात को ये उपाय करने से अगले दिन सुबह खुल के पेट साफ़ होने लगेगा।

2. सुबह पेट ठीक से साफ़ न होने की स्थिति में रात को सोने से पहले इसबगोल की भूसी का सेवन करे। कब्ज खोलने में इसबगोल एक रामबाण इलाज है।

3. तुरंत पेट साफ़ करने के तरीके में निम्बू पानी पिने से भी फायदा मिलता है। एक गिलास गुनगुने पानी में एक निम्बू निचोड़ कर पिए। रात को सोने से पूर्व ये उपाय करने पर अगली सुबह पेट साफ़ हो जाता है।

4. चार चम्मच सौंफ एक गिलास पानी में उबाले और पानी ठंडा होने पर इसे छान कर पिए। इस होम रेमेडीज को करने पर qabj खोलने में मदद मिलती है।

5. कब्ज़ दूर करने में गेंहू के जवारे का रस पिने से भी फायदा मिलता है।

 

पुरानी कब्ज का रामबाण इलाज

  • रात को किशमिश 25 ग्राम की मात्रा में ले और पानी में भिगो दे और प्रतिदिन सुबह ये किशमिश खाएं। कब्ज़ चाहे कितनी भी पुरानी हो कुछ दिन ये उपाय निरंतर करने पर कब्ज से राहत मिलती है।
  • पुरानी कब्ज का इलाज करने के लिए त्रिफला बहुत उपयोगी है। हर रोज त्रिफला चूर्ण का सेवन करने से कब्ज की परेशानी दूर होने लगती है।
  • इस रोग में सुबह शाम दस से बारह मुन्नके खाने से भी लाभ मिलता है।

 

तुरंत पेट साफ़ करने के लिए क्या खाएं

  • सुबह सुबह दो सेब चबा चबा के खाने से इस रोग में जल्दी आराम मिलता है।
  • प्रतिदिन कच्ची पालक का रस 2 बार पिने पर कुछ ही दिनों में कब्ज ठीक हो जाती है।
  • कब्ज़ से प्रभावित व्यक्ति को फलों का सेवन अधिक करना चाहिए, जैसे अमरुद, पपीता, सेब, मौसमी, नारियल, संतरा, अंजीर, खीरा, गाजर।
  • सब्जियों का रस, ताजे फलों का जूस व नारियल पानी के सेवन से constipation treatment में काफी लाभ मिलता है।
  • कब्ज ठीक करने के लिए आहार में हरी सब्जियां और चोकर वाले आटे से बनी रोटी का सेवन अधिक करना चाहिए।
  • सोने से पहले रात को तांबे के बर्तन में पानी रखे और अगली सुबह खाली पेट इसे पिए फिर सुबह की सैर के लिए जाये। सैर से लौटने के बाद मल त्याग के लिए जाये आपका पेट पूरी तरह साफ़ होगा।
  • कब्ज से छुटकारा पाने के लिए प्रतिदिन 3 से 4 लीटर पानी जरुर पिए।

 

कब्ज की दवा पतंजलि – Kabj ki Dawa Patanjali

प्राकृतिक तरीके से बीमारी का इलाज करने के लिए पतंजलि आयुर्वेदिक दवा काफी फायदेमंद है। योग से रोग कैसे दूर करे इसकी जानकारी देने के साथ साथ baba ramdev आयुर्वेदिक उपचार और देसी नुस्खे के बारे में भी जागरूक करते है।

बाबा रामदेव पतंजलि आयुर्वेदिक मेडिसिन से कब्ज ठीक करने के लिए आप यहां बताई गयी दवा ले सकते है। ये अचूक दवाई गैस और कब्ज जैसी बिमारियों में रामबाण इलाज का काम करती है।

  1. पतंजलि दिव्य चूर्ण (Patanjali Divya Churna)
  2. दिव्य गैसहर चूर्ण (Divya Gashar Churna)

 

योग से कब्ज दूर करने के उपाय

कब्ज दूर करने के लिए योग में कपालभाती करने से बहुत आराम मिलता है। कपालभाती प्राणायाम कब्ज के इलावा भी पेट से जुड़ी अन्य समस्याओं के इलाज में बेहद उपयोगी है। कब्ज ठीक करने के लिए प्रतिदिन सुबह 15 मिनट कपालभाती जरुर करे। योग आसन से कब्ज़ का उपचार करने के लिए आप निचे बताये योगासन करे।

  1. धनुरासन योग
  2. कपालभाती प्राणायाम
  3. अनुलोम विलोम प्राणायाम

 

कब्ज का इलाज बाबा रामदेव

  • 100 ग्राम आंवला, 100 ग्राम बहेड़ा, 100 ग्राम बड़ी हरड़ व 100 ग्राम छोटी हरड़ ले और इन सब को पीस कर चूरन बना ले। जब भी कब्ज़ की परेशानी हो इस चूरन का सेवन करे पेट ठीक से साफ़ होगा।
  • अरंडी का तेल 1 चम्मच ले और 1 गिलास गुनगुने दूध में मिलाकर पिए। कुछ दिनों तक ये gharelu upay करने से कब्ज ठीक होने लगती है।
  • बाबा रामदेव के अनुसार पेट साफ करने के आसन और उपाय के साथ अगर अपने खाने पिने की आदतों में भी सुधार लाये तो कब्ज से बचने और इसके ट्रीटमेंट में काफी फायदा मिलेगा।

 

पेट साफ़ करने के लिए होम्योपैथिक इलाज – Homeopathic Treatment

तुरंत पेट साफ़ कैसे करे इसका उपचार homeopathic तरीके से भी कर सकते है।

  • Silicea 200 एक होमियोपैथी दवा का नाम है, ये दवाई 10 – 10 मिनट के अंतराल में 3 – 3 बूंदे 3 बार ले।
  • इस दवा को 3 बार लेने के बाद आधे घंटे में ही पेट साफ़ हो जाता है। ये मेडिसिन आप किसी भी होमियोपैथी दवाओं के स्टोर से ले सकते है
  • इस दवा के प्रयोग से पूर्व किसी होम्योपैथिक चिकित्सक से सलाह जरुर करे।

 

पेट सफा आयुर्वेदिक चूर्ण

जल्दी पेट साफ़ करने में ये उपाय पेट सफा चूर्ण का काम करता है। सोते समय रात को 1 चम्मच आंवले का चूर्ण दूध या पानी के साथ ले। इस नुस्खे से पेट की आंते व पेट ठीक से साफ़ रहता है।

 

कब्ज से बचने के उपाय क्या है

  • अपने आहार में ऐसे फ़ूड शामिल करने चाहिए जिन्हें पचाने में शारीर को अधिक मेहनत ना करनी पड़े व qabz न हो इसके लिए ये जरुरी है की खाने को चबा चबा करे खाएं।
  • सुबह को टॉयलेट जाने में आलस करना भी कब्ज़ का कारण है। कुछ लोग प्रेशर बनने के बाद भी मल त्याग को नहीं जाते जिससे मल पेट में ही सूखने लगता है और कब्ज हो जाती है। इसलिए आलस छोड़े और जब भी हाजत हो मल त्याग के लिए जाये।
  • पुरानी कब्ज के घरेलू उपाय करने के साथ साथ परहेज करना भी जरुरी है। Pet saaf न हो तो तली और भुनी हुई चीजें खाने से परहेज करे, इसके साथ साथ मैदा, बेसन और जादा मिर्च मसालेदार भोजन भी नहीं खाना चाहिए।
  • रात्रि का भोजन सोने के दो से तीन घंटे पहले खाए व रात्रि को हल्का ही भोजन करे।
  • भोजन करने के 1 घंटे पहले कम से कम एक गिलास पानी अवश्य पिए।
  • अपनी diet में फाइबर युक्त खाद्य पदार्थ अधिक रखे।
  • खाना खाते समय व खाना खाने के कम से कम आधे घंटे के भीतर पानी नहीं पीना चाहिए।

 

दोस्तों कब्ज की आयुर्वेदिक दवा और घरेलू इलाज, Kabj ki Ayurvedic Dawa ilaj aur Upay in Hindi का लेख कैसा लगा हमें बताये और अगर आपके पास तुरंत पेट साफ़ करने व कब्ज दूर करने के लिए उपाय और घरेलू नुस्खे कैसे करे से जुड़े अनुभव है हमारे साथ साँझा करें।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!