हाई और लो ब्लड प्रेशर के कारण और लक्षण – Blood Pressure in Hindi

हाई और लो ब्लड प्रेशर के लक्षण और कारण इन हिंदी: अगर किसी रोग के symptoms पहले से ही मालूम हो तो समय पर उसकी पहचान करके उसे बढ़ने से रोक सकते है। इसके इलावा बीमारी का इलाज सही तरीके से करने के लिए उसके कारणों की जानकारी भी होना चाहिए। हाई बी पी और लो बीपी की समस्या आजकल बड़ी उम्र के लोगों के इलावा कम उम्र के लोगों में भी बढ़ती जा रही है। आज इस लेख में हम जानेंगे high और low bp के लक्षण क्या है, high aur low blood pressure ke lakshan aur karan in hindi.

ब्लड प्रेशर के लक्षण और कारण, blood pressure ke lakshan aur karan

 

ब्लड प्रेशर क्या है – What is blood pressure

  • हमारे शरीर में रक्त धमनियों पर पड़ने वाले खून के दबाव को blood pressure कहते हैं। ब्लड प्रेशर नापने के लिए डॉक्टर जिस मशीन का प्रयोग करते है उसे स्फिग्नोमैनोमीटर कहते हैं।
  • ब्लड प्रेशर कितना होना चाहिए, नार्मल व्यक्ति का बीपी 120/80 mm होता है और वृद्धों का बी पी 140/90 mm तक हो सकता है।
  • नार्मल ब्लड प्रेशर जब 120/80 से ज्यादा होता है तो ये high bp के संकेत है और जब कम हो तो ये low bp है।
  • हाई बी पी की स्थिति में हमारे हृदय को धमनियों में रक्त भेजने में जादा मेहनत करनी पड़ती है जिस कारण हार्ट कमजोर होने लगता है।
  • रक्तचाप जब 90/60 या उससे भी कम होने लगे तो इसे निम्न रक्तचाप या लो ब्लड प्रेशर कहते है। ऐसी स्थिति में बॉडी में रक्त का संचार धीमा होने लगता है।
  • जिन लोगों को ज्यादातर शुगर (diabetes) और ब्लड प्रेशर की शिकायत है उनका बीपी 130/80 या इससे कम हो चाहिए।
  • घर पर बीपी नापने के लिए मोनिटर इस्तेमाल कर सकते है ये डिजिटल है और आटोमेटिक भी। मोनिटर से बी पी नापने में कोई परेशानी नहीं होती, इसका प्रयोग करना बहुत आसान है।

 

ब्लड प्रेशर के लक्षण और कारण इन हिंदी

Blood Pressure ke Karan aur Lakshan in Hindi

बाहर से देखने पर ब्लड प्रेशर का कोई लक्षण और खतरा नहीं दिखता पर जब ये रोग बढ़ता है तो गंभीर स्तिथि बन सकती है जैसे की heart attack और लकवा जैसे गंभीर रोग होना। घरेलू नुस्खे और उपाय से ब्लड प्रेशर control में रख सकते है और इसका इलाज किया जा सकता है।

 

हाई ब्लड प्रेशर के लक्षण: Symptoms of high blood pressure

हाई बीपी में दिल के रोग, गुर्दे के रोग, आँखे खराब होना, धमनियां सख्त होना और मस्तिष्क के ख़राब होने का खतरा बढ़ जाता है। High bp एक धीमा जहर है जिस कारण शरीर के अंग धीरे धीरे ख़राब हो जाते है। इसके लक्षणों को पहचान कर अगर सही तरीके से देखभाल की जाये तो उच्च रक्तचाप का असर कम किया जा सकता है। आइये जाने हाई बीपी के लक्षण क्या है।

  1. तेज सिर दर्द होना
  2. थकावट और ज़्यादा तनाव
  3. सीने में दर्द व भारीपन होना
  4. सांस लेने में भी परेशानी महसूस करना
  5. अचानक से घबराहट होना
  6. कुछ भी समझने और बोलने में कठिनाई होना
  7. चेहरा बांह या फिर पैरों में अचानक से सुन्नपन आना
  8. कमजोरी महसूस करना और धुंधला दिखाई देना

 

लो बीपी के लक्षण: Low bp ke lakshan

एक दम से ज्यादा कमजोरी महसूस करना और चक्कर आना  low blood pressure symptoms है। इसके इलावा लो ब्लड प्रेशर के लक्षण में कुछ प्रमुख लक्षण नीचे भी है।

  1. भूख न लगना
  2. थकान, निराशा या डिप्रेशन
  3. जी मचलना और प्यास लगना
  4. आँखों का लाल होना
  5. त्वचा पर पीलापन आना
  6. धुंधला दिखाई देना
  7. तेज साँसे आना, हृदय जोर से धड़कना

 

ब्लड प्रेशर के कारण: Blood pressure ke karan in hindi

बीपी लो होने और बढ़ने का एक कारण अनुवांशिक भी है। जैसे की अगर परिवार में किसी को उच्च रक्तचाप की समस्या है तो उनकी अगली पीढ़ी को भी bp problem होने की संभावना अधिक होती। ठीक इसी प्रकार अगर फॅमिली में किसी को निम्न रक्तचाप है तो उनके बच्चों को भी ये रोग प्रभावित कर सकता है।

 

हाई बीपी के कारण: High bp causes

  • ब्लड प्रेशर हाई होने का प्रमुख कारण मोटापा है। मोटे व्यक्ति में बीपी बढ़ने का खतरा normal व्यक्ति से ज्यादा होता है।
  • शारीरिक श्रम ना करना। जो लोग व्यायम, खेल कूद और कोई भी शारीरिक क्रिया नहीं करते और आरामतलब जीवन जीते है उन्हें रक्तचाप की समस्या हो सकती है।
  • शुगर, दिल के रोग होना, किडनी के रोग होना, रक्त धमनियां कमजोर होना जैसे रोगों की वजह से भी bp high हो जाता है।
  • ज्यादा नमक खाना, जंकफूड ज्यादा खाना, धूम्रपान और शराब का अधिक सेवन करना।
  • प्रेगनेंसी के दौरान गर्भवती महिला को भी बी पी बढ़ने की समस्या होती है।

 

लो ब्लड प्रेशर के कारण: Causes of Low bp

  • गुस्सा जादा करने से निम्न रक्तचाप की समस्या हो जाती है।
  • आहार ठीक ना होना। संतुलित खाना न खाने से शरीर अस्वस्थ रहने लगता है।
  • बीपी लो होने के कारण में से प्रमुख है ज्यादा tension लेना और मानसिक चिंता करना।
  • वजन बहुत जादा बढ़ना भी बीपी लो होने की एक वजह है।
  • शरीर में पानी या खून की कमी होना।

 

दोस्तों ब्लड प्रेशर के लक्षण और कारण, Blood Pressure ke Karan Lakshan in Hindi का ये लेख कैसा लगा हमें बताये और अगर आपके पास लो बीपी और हाई बीपी के लक्षण कारण और इलाज (high aur low bp symptoms, causes) से जुड़े सुझाव है तो हमें लिखे।

You may also like...

5 Responses

  1. Rajesh Kumar says:

    Hume pet ke bimari hi parantu aisa kbhi kabhi hota hai

  2. Sachin mate says:

    Chakkar ata hai par weight kam
    Thik laga aap ka lekh
    Padhkar kuch to malum hua

  3. UDAY KUMAR says:

    Mera problem hai bp hi ha kamjori aankho ke samne dhudhlapan
    Iske dawra kuch to jankari mili.

  4. vikas says:

    Mera BP high ho jata hai aur sharir me ghabrahat hoti hai aur sene me bharipan lagta hai doctor ko dikhaya to doctor ne kaha ki BP dawa continuous lo
    Kya karna chahiye iske liye koi upay bataiye

    • Admin says:

      घरेलू नुस्खे और उपाय भी ब्लड प्रेशर कम करने में मददगार है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!