ग्रीन कॉफी से वेट लॉस करने के उपाय: Green Coffee Benefits in Hindi

Green coffee benefits for weight loss in hindi: वेट लॉस करने के लिए ग्रीन टी के बारे में आप जानते ही होंगे पर क्या आप ग्रीन कॉफी से वेट लॉस का तरीका जानते है। ग्रीन कॉफी में एंटीऑक्सीडेंट भरपूर मात्रा में होते है जो वजन कम करने के उपाय और मोटापा नियंत्रित करने में काफी उपयोगी है। ग्रीन कॉफी के उपयोग से पहले लोग अक्सर ये सवाल करते है की ग्रीन टी और ग्रीन कॉफी में क्या फरक है,  ग्रीन कॉफी से वजन कैसे कम करे, ग्रीन कॉफी कैसे बनाये, ग्रीन कॉफी पीने का तरीका क्या है, ग्रीन कॉफी के फायदे और नुकसान क्या है और ग्रीन कॉफी कितनी मात्रा में लेनी चाहिए। अगर आपके मन में भी ग्रीन कॉफी वेट लॉस इन हिंदी से जुड़े सवाल है तो इस लेख को ध्यान से पढ़े यहां हम जल्दी वजन कम करने के लिए ग्रीन कॉफी बनाने का तरीका जानेंगे। आइये जाने how to make green coffee in hindi for weight loss.

दोस्तों ग्रीन कॉफी फैट बर्न सप्लीमेंट के रूप में जाना जाता है और ग्रीन कॉफी बीन्स के बारे में अक्सर ऐसा प्रचार किया जाता है की इसे पीने से आप 30 दिन में 15 किलो वजन कम कर सकते है, हम ऐसी किसी बात का समर्थन नहीं करते है और न ही हम इसका प्रचार करते है। इस लेख के माध्यम से हमारा सिर्फ यही प्रयास है की आप को ग्रीन कॉफी के सेवन से संबंधित जरूरी जानकारी दे सके। सही तरीके से ग्रीन कॉफी के सेवन से आप एक महीने में 3 से 5 किलो तक वजन आसानी से घटा सकते है। व्यस्त दिनचर्या के कारण जो लोग वेट लॉस के लिए योगा और एक्सरसाइज नहीं कर सकते है उनके लिए ग्रीन कॉफी काफी फायदेमंद है।

ग्रीन कॉफी से वेट लॉस इन हिंदी, green coffee weight loss in hindi

 

ग्रीन कॉफी क्या है:  Green coffee in hindi

ग्रीन कॉफी और नार्मल कॉफी में जो बड़ा अंतर है की ग्रीन कॉफी वास्तिवक में कॉफी का एक नेचुरल रूप है। ग्रीन कॉफी बीन्स कच्चे होते है क्यूंकि इन्हें भूना नहीं जाता। कॉफी बीन्स भुनने से कॉफी की खुशबु और इसका टेस्ट अच्छा हो जाता है, इसलिए हर रोज पी जाने वाली कॉफी भुने हुए बीन्स की बनती है और इसी कारण से जो लोग हर रोज नॉर्मल कॉफी का सेवन करते है उनका वजन जल्दी कम नहीं हो पाता।

कॉफी बींस भुनने से इसमें मौजूद एंटीऑक्सिडेंट और इसके प्राकृतिक औषधीय गुण नष्ट हो जाते हैं। ग्रीन कॉफी के बीन्स कच्चे होते है और इसमें एंटीऑक्सिडेंट अधिक होते है जो वेट लॉस करने के इलावा कई तरीके के फायदा करता है।

 

ग्रीन कॉफी से वेट लॉस कैसे करे उपाय इन हिंदी

Green Coffee Weight Loss in Hindi

 

  1. अगर आप बढ़े हुए वजन से परेशान है और इसे कम करने के लिए एक्सरसाइज और रेगुलर डाइट प्लान नहीं कर सकते तो आप ग्रीन कॉफी का सेवन कर सकते है। इसके प्रयोग से आप बिना एक्सरसाइज 1 महीने में 3 से 5 किलो तक वजन घटा सकते है।
  2. ग्रीन कॉफी में क्लोरोजेनिक एसिड होता है जो हरे शरीर में शुगर की मात्रा नियंत्रित करता है। नियमित रूप से ग्रीन कॉफी का सेवन करने से बॉडी में फैट खत्म होने की प्रक्रिया तेज हो जाती है।
  3. मोटापा कम करने में ग्रीन कॉफी इसलिए भी जादा फायदेमंद है क्योंकि इसके बिना भुने और कच्चे बीन्स में जो पोषक तत्व मौजूद होते हैं वे पाचन क्षमता दरुस्त रखने में उपयोगी है जिससे वजन नियंत्रण करने में मदद मिलती है।
  4. ग्रीन कॉफी रेगुलर पिने से बॉडी का मेटाबोलिज्म अच्छा होता है जिससे बॉडी में जमा फैट बर्न होने लगता है और वेट लॉस प्रक्रिया तेजी से होती है। मेटाबोलिज्म बढ़ने से शरीर में एनर्जी और स्टेमीना भी बढ़ता है।
  5. थायराइड के रोग की वजह से शरीर में मोटापा बढ़ने लगता है। अगर आप भी थायराइड रोग से प्रभावित है और वेट लॉस के लिए ग्रीन कॉफी प्रयोग करना चाहते है तो एक बार अपने डॉक्टर से सलाह जरूर करे और जाने क्या थायराइड में ग्रीन कॉफ़ी पी सकते है या नहीं।

ग्रीन कॉफ़ी के इलावा फैट बर्न करने के लिए आप पतंजलि से वेट लॉस की आयुर्वेदिक दवा ले सकते है। पतंजलि में ग्रीन कॉफी की ही तरह कई प्रकार के हर्बल प्रॉडक्ट भी मिलते है जो तेजी से वजन कम करने में मदद करते है।

 

Green coffee peene ka tarika: ग्रीन कॉफी पीने का तरीका

  • सुबह ब्रेकफास्ट से पहले ग्रीन कॉफी पीने से जल्दी वेट लॉ किया जा सकता है।
  • खाना खाने के 1/2 घंटा पहले इसका सेवन कर सकते है। ग्रीन कॉफ़ी पीने के आधा घंटा पहले और आधा घंटा बाद कुछ खाये पिए नहीं।
  • आप अगर ग्रीन कॉफी टेबलेट/कैप्सूल ले रहे है तो इसे इस्तेमाल करने का तरीका भी साथ में होगा।

 

ग्रीन कॉफी कैसे बनाये इन हिंदी: Green coffee recipes in hindi

ग्रीन कॉफ़ी बीन्स और पाउडर के रूप में उपलब्ध है, यहां हम दोनों ग्रीन कॉफी बनाने के दोनों तरीके जानेंगे। पाउडर और बीन्स के इलावा आजकल ग्रीन कॉफी टेबलेट भी आती है पर इनके परिणाम में कोई जानकारी नहीं मिल पायी है।

1. ग्रीन कॉफी बनाने का तरीका (बीन्स से): सामग्री 10 ग्राम ग्रीन कॉफी के बीन्स, 150 एम एल पानी (टेस्ट के लिए इलायची, शहद)

रात को बीन्स को पानी में भिगो कर छोड़ दे सुबह इसी पानी में बीन्स खंगाल कर 15 मिनट तक धीमी आंच पर उबाले। आपकी ग्रीन कॉफी अब त्यार है अगर पिने में इसका टेस्ट अच्छा न लगे तो इसमें थोड़ा शहद मिलकर पिए।

2. Green coffee banane ka tarika (पाउडर से): ग्रीन कॉफी के बीन्स पीस कर इसका पाउडर बना ले, इस पाउडर को अब कप में डाल कर उपर से गरम पानी डाले और और दस मिनट बाद इसे छान कर पिए। अगर आपके पास ग्रीन कॉफ़ी पाउडर है तो इसे सीधे कप में डाले और गरम पानी डाले।

ग्रीन कॉफी बनाने की विधि आप जान गए है अब ग्रीन कॉफी पीने के फायदे और नुकसान के बारे में जानते है।

 

Green coffee benefits in hindi: ग्रीन कॉफी के फायदे

बॉडी डीटॉक्स करने में ये बेहद उपयोगी है। हमारे शरीर में कई कारणों से फ्री रॅडिकल्स बनते है जिससे कई प्रकार के रोग होने का ख़तरा बढ़  जाता है। बॉडी को फिट और हेल्थी रखने के लिए इन फ्री रेडिकल्स का बाहर निकलना बेहद ज़रूरी है। शरीर से विषैले और हानिकारक रसायन बाहर निकालने में ग्रीन कॉफी कारगर है। आइये जाने ग्रीन कॉफ़ी के अन्य हेल्थ बेनिफिट्स क्या है।

  1. ग्रीन कॉफी बॉडी का मेटाबॉलिक लेवल बढ़ा देती है जिससे नार्मल फिजिकल एक्टिविटी में भी पहले से अधिक कैलोरी खर्च होती है।
  2. इसमें एंटी ऑक्सीडेंट भरपूर मात्रा में होते है जो ना केवल मोटापा घटाता है बल्कि त्वचा को भी हेल्थी और चमकदार बनाता है।
  3. एक शोध के अनुसार ग्रीन कॉफ़ी में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट कैंसर के सेल्स से लड़ने में कारगर है, इसके नियमित सेवन से आप कैंसर जैसे गंभीर रोग से भी बच सकते है।
  4. इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट एंटी एजिंग का काम भी करते है। इसके नियमित सेवन से बॉडी का एजिंग प्रोसेस धीमा हो जाता है जिससे आपकी स्किन लंबे समय तक जवान दिखती है।
  5. ग्रीन कॉफी पीने से एकाग्रता बढ़ती है और इसके साथ साथ याददाश्त भी तेज होती है।
  6. इसमें मौजूद क्लोरोजेनिक एसिड बॉडी में शुगर लेवल को कंट्रोल करता है।

 

ग्रीन कॉफी के नुकसान: Green coffee ke side effects in hindi

  • ग्रीन कॉफी के अभी तक कोई बड़े साइड इफ़ेक्ट नहीं दिखे है क्योंकि इसमें कॅफीन अधिक होती है इसलिए इससे जुड़े कुछ नुकसान हो सकते है।
  • कॅफीन साइड इफेक्ट्स में पेट में गड़बड़, जुकाम, नींद ना आना और बेचैनी शामिल है। अगर आप को इनमें से कोई समस्या पहले से ही है तो ग्रीन कॉफ़ी का सेवन न करे इससे परेशानी और बढ़ सकती है।
  • हाई ब्लड प्रेशर के रोगी भी इसका सेवन ना करे। ब्लड प्रेशर कंट्रोल होने के बाद डॉक्टर की सलाह से ही शुरू करे।
  • ग्रीन कॉफी शरीर के मेटाबोलिज्म पर असर करती है इसलिए प्रेग्नेंट विमन प्रेगनेंसी के दौरान ग्रीन कॉफी ना पिए और जो महिलाएं बच्चे को अपना दूध पिलाती है वे भी ग्रीन कॉफी और अन्य वेट लॉस सप्लीमेंट से दूर रहे।

 

ग्रीन कॉफी से वेट लॉस के उपाय, इसके फायदे और नुकसान से संबंधित जो तरीके ऊपर बताये गए है वे आपकी जानकारी के लिए है। इसके सेवन से पहले ग्रीन कॉफी के बारे में पूरी जानकारी ले और अगर आप थायराइड या किसी अन्य रोग से प्रभावित है तो अपने डॉक्टर से सलाह ले कर ही इसका सेवन शुरू करे।

 

इस आर्टिकल में आपने जाना तेजी से वजन कम करने के लिए ग्रीन कॉफी कैसे बनाये और इसे पीने का तरीका क्या है। दोस्तों ग्रीन कॉफी से वेट लॉस कैसे करे इन हिंदी, Green Coffee Weight Loss in Hindi का ये लेख आपको कैसा लगा हमें बताये और अगर आपके पास green coffee in hindi से जुड़े कोई सुझाव उपाय या अनुभव है तो हमारे साथ साँझा करे।

You may also like...

1 Response

  1. Ramesh says:

    बहुत बहुत बढ़िया है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!