गले में छाले सूजन और दर्द का इलाज 10 आसान घरेलू उपाय

गले में छाले का इलाज और उपचार इन हिंदी: गले में खराश, जलन, खांसी, गला पकना, दर्द और मुंह में छालों की समस्या होना आजकल आम है जो किसी भी उम्र में हो सकती है। ये रोग ज्यादातर तले और मसालेदार खाने से होते है। कुछ बच्चों और बड़ों को tonsil के कारण छाले और गले के अंदर सूजन हो जाती है जिस कारण गले में चुभन और दर्द होने लगता है। टॉन्सिल के रोग में पानी पिने में भी परेशानी होती है और यहां तक की थूक निगलने में दर्द होना भी आम है। कुछ लोग गले की सूजन व छाले की दवा लेते है पर आप बिना मेडिसिन घरेलू नुस्खे से गले के छाले मिटाने के उपाय कर सकते है। आइये जाने gale me chale ka ilaj aur gharelu upay in hindi.

गले में छाले का इलाज, Gale me chale ka upay in hindi

 

गले में छाले का कारण – Causes of Throat Blisters

  • तेज मसाले वाले भोजन का अधिक सेवन करना।
  • कब्ज के रोग में भी गले में छाले हो जाते है।
  • किसी तरह के बैक्टीरिया और वायरस की वजह से गले में infection होना।
  • गले में टॉन्सिल होने पर छाले और सूजन की समस्या आती है।

 

गले में छाले के लक्षण – Symptoms

  • छालों की समस्या होने पर गले के अंदर छोटी छोटी और सफ़ेद फुंसियां निकल आती है। कुछ समय के बाद ये फुंसियां लाल हो जाती है जिनमें दर्द और जलन होती है और गले में खाना अटकना व चुभन जैसी परेशानी होती है।

 

गले में छाले का इलाज और उपाय

Gale Me Chale Ka Upay in Hindi

गले के रोग होने पर सब से बड़ी परेशानी ये होती है की रोगी को कुछ को कुछ भी खाने पिने में तकलीफ होती है और समस्या गंभीर हो तो थूक निगलने में भी दर्द होता है। आइये जाने बिना दवा के देसी घरेलू नुस्खे से गले में छाले का उपचार कैसे करे, gale ke chale ka ilaj in hindi.

1. गाजर के रस में शहद 2 चम्मच या फिर 1/2 चम्मच अदरक का रस मिला कर पीने से छालों की समस्या में राहत मिलने लगती है। हर रोज गाजर का रस पीने से गले के छाले नहीं होते।

2. गले के छाले का इलाज में सिंघाड़े भी काफी उपयोगी है। इसमें आयोडीन अधिक मात्रा में होता है। इसे खाने से throat blisters काफी आराम मिलता है।

3. टॉन्सिल के कारण गले में छाले और सुजन आ रही हाई तो सौंठ को गरम पानी में मिला कर पिए। इस उपाय से टॉन्सिल के दर्द और छालों में जल्दी आराम मिलेगा।

4. पका हुआ केला और मिश्री दही में दाल कर अच्छे से मिला ले। इस मिश्रण को ठंडा कर के खाये, ये गले में छाले की दवा की तरह काम करता है।

5. गले के छालों का उपचार के लिए फिटकरी को पानी में घोल कर इस पानी से गले के गरारे करे, पानी हल्का गरम होना चाहिए ताकि जल्दी असर हो। फिटकरी छालों को बढ़ने से रोकेगी और सूजन को कम करेगी। ये home remedies करने के बाद शहतूत का रस पिए। गले के छाले ठीक करने में शहतूत एक प्रकार की प्राकृतिक दवाई है।

6. मुंह जीभ और होठों पर छाले का घरेलू उपचार में हल्दी रामबाण दवा है। इसका प्रयोग बहुत से रोगों को ठीक करने में किया जाता  है। गरम पानी में 1 चम्मच हल्दी डाल कर 15 से 20 बार कुल्ला करने से मुंह के छालों से राहत मिलने लगेगी।

7. तुलसी के पत्ते भी mouth ulcers ठीक करने में  काफी फायदेमंद है। तुलसी 3 से 4 पत्ते पीस कर इसका रस छालों पर लगाए।

8. कब्ज या पेट के किसी रोग के कारण अगर मुंह और गले में छाले हुए है तो पहले कब्ज़ दूर करने के gharelu upay करे ताकि बार बार छाले की परेशानी से बचा जा सके।

9. गले में छाले के उपाय बाबा रामदेव के अनुसार हल्दी गले के रोग दूर करने में भी मददगार है। गले की सुजन, दर्द और टॉन्सिल का सरल उपचार है हल्दी। 1/2 चम्मच गोलकी पाउडर के साथ 1 चम्मच हल्दी एक गिलास गरम दूध में मिला कर सोने से पहले पिए।

10. गन्ने का रस थोड़ा गरम करके इसमें दूध मिला कर पिए। इस उपाय को करने से जल्दी ही छाले ठीक हो जाते है।

 

गले में सूजन का उपचार – Gale Me Sujan in Hindi

  1. गले में सूजन होना या गला पकना जैसी समस्या के उपचार के लिए 2 ग्राम फूली हुई फिटकरी 250 ग्राम पानी में डाले और दिन में 2 से 3 बार गरारे करे। इस उपाय से गले की सूजन और pain में आराम मिलेगा।
  2. फिटकरी न मिलने पर 1/2 चम्मच सेंधा नमक 1 गिलास गरम पानी में डालें और इससे गरारे करे।
  3. गले की सूजन एवं दर्द का इलाज में 10 ग्राम अजवाइन आधा लीटर पानी में 10 से 15 मिनट तक उबले और छान कर काढ़ा बनाये। इसमें थोड़ा नमक डाल कर दिन में दो बार गरारे करे तुरंत आराम मिलने लगेगा।
  4. सूजन होने के कारण अगर कफ निकलता हो तो अजवायन 2 ग्राम ले और इसे चबा कर गरम पानी पी ले। इससे कफ कम बनने लगेगी।
  5. गरम पानी से सिकाई करने से भी गले की swelling कम होने लगती है।
  6. निगलने में दर्द होने पर मिश्री और सूखा धनिया एक समान मात्रा में ले और इस मिश्रण का 1 चम्मच्च दिन में दो बार चबाये। इस उपाय से मुंह के छाले ठीक करने में भी मदद मिलेगी।

 

गले के छाले होने पर क्या ना खाये – परहेज

  • टॉन्सिल होने पर ठंडी चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए।
  • गले के रोग में धूम्रपान से दूर रहे।
  • तला हुआ और मसालेदार खाने से परहेज करे।
  • दूध और मलाई का सेवन ना करे।
  • खट्टी चीजों के सेवन से भी दूर रहे।

 

दोस्तों गले में छाले का इलाज और उपाय, Gale Me Chale Ka ilaj Gharelu Upay in Hindi का ये लेख कैसा लगा हमें बताये और अगर आप के पास गले की सूजन टॉन्सिल व छालों का उपचार के घरेलू नुस्खे और थूक निगलने में दर्द होना देसी की दवा है तो हमारे साथ साँझा करे।

You may also like...

12 Responses

  1. रमेश कुमार says:

    Infection of throat गले में इन्फेक्शन

  2. Vishnu says:

    Pata nahi yar kuch nahi hota hai.

  3. Nileshkumar says:

    मुझे गले में सूजन के साथ साथ खराश भी है कृपया कोई रामबाण उपाय बताए.

  4. Neetu says:

    मेरे गले में छाले है कृपया मुझे इसका रामबाण उपाय बताएं कुछ खाती हूं तो दर्द से और चुभता है.

  5. Deepak newar says:

    Mera gale pe dard 4 mahine me 2 bar ho chuka hai jab bhi gale ka dard hota hai muh ho0t me ghav matlab lips ke chale pak jata hai aisa kyu sath hi gale me bahut dard hota hai pani bhi andar mushkil se jata hai plz batana.

  6. Riya says:

    Bahut taklif hai gale me chale se bahut presan hu sab kar liya koi fayda nhi.

  7. Ashok says:

    Main to pareshan ho gya hu in chalo se sir kabhi thik hote hi nhi koi upay btao ki ye jldi se thik ho jaye medicine le le ke bhi thak gya hu.

  8. ram verma says:

    Mere muh me chale ho rahe hai koi accha ilaj bataye.

  9. Manoj gupta says:

    Mere tonsil me niche chala hua hai 5 din ho gya sahi nhi ho raha hai bahut dard ho rha hai gram pani me namak daal ke garare karta hu aaram hota hai fir thodi der bad dard chalu ho jata hai koi acha upay bataiye.

  10. Mayank singh says:

    Gale me dard hai jibh pe chale hai kuch khana pina khaya nahi rha hai.

  11. Deepti says:

    1-2 year baby ko chala ho to.

  12. vaibhav says:

    mere gale me chale ho gaye hai upay bataye.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!