दस्त और पेट की मरोड़ का घरेलू इलाज और 10 आसान उपाय

दस्त का घरेलू इलाज और उपाय: लूज मोशन पेट की बीमारी है जिसे हम डायरिया भी कहते है। ये समस्या ज्यादातर पाचन तंत्र में गड़बड़ी की वजह से होती है। बड़े हो या बच्चे, पेट में मरोड़ और दस्त से कोई भी परेशान हो सकता है। दस्त होने की एक बड़ी वजह गलत खान पान और बदहजमी है। इसके अतिरिक्त  ज्यादा गर्मी लगने के कारण भी दस्त हो सकते है। अगर नवजात शिशु और छोटे बच्चों को दस्त में जल्दी आराम ना मिले तो तुरंत किसी डॉक्टर से मिलकर ट्रीटमेंट लेना चाहिए। इसके साथ साथ बिना किसी ठोस जानकारी के बच्चे को दस्त रोकने की मेडिसिन नहीं दे। आज हम लेख में दस्त रोकने के घरेलू उपाय और देसी नुस्खे जानेंगे, gharelu nuskhe for loose motion in hindi.

ज्यादा दिनों तक दस्त रहने से शरीर में पानी की कमी हो जाती है। इससे बचने के लिए पानी ज्यादा पिए। इसके साथ साथ ORS का घोल और नींबू पानी पिने से भी दस्त में आराम मिलता है।

दस्त का घरेलू इलाज और उपाय, gharelu nuskhe for loose motion in hindi

 

पेट में मरोड़ आना

  • पेट में मरोड़ आने की कई वजह हो सकती है जैसे बदहजमी, खराब खाना, कच्चा खाना खाना और दस्त लगना। इन चीजों का ख्याल रखने से पेट में मरोड़ से निजात पा सकते है।

 

दस्त का घरेलू इलाज और उपाय

Gharelu nuskhe for loose motion in hindi

1. सौंफ 5 ग्राम और 5 ग्राम जीरा ले। अब इन्हें बारीक पीस कर चूर्ण बना ले। 1 चम्मच चूर्ण का सेवन 1 गिलास पानी के साथ करे। इस उपाय से दस्त से जल्दी राहत मिलने लगेगी।

2. गाय का ताजा दूध 1 गिलास ले और इसमें 1 नींबू निचोड़ कर तुरंत पी जाए। इस घरेलू नुस्खे से लूज मोशन ठीक होने लगेगा।

3. दस्त रोकने के लिए कच्चा केला भी उपयोगी है। 3-4 कच्चे केले बिना छिले उबाल ले। अब एक बर्तन ले उसमें 1 चम्मच घी डाल कर गरम कर ले। अब उबले हुए केलों को छील कर इसमें डाले और इसके साथ 3-4 लौंग भी डाले। अब एक दूसरा बर्तन ले और इसमें एक कटोरी दही, आधा चम्मच धनिया थोड़ा सा सेंधा नमक डाल कर मिला ले। अब दही में केले डाल कर इसमें थोड़ा पानी मिलाये और इसे कुछ देर धीमी आंच पर पकने दे। ठंडा हो जाने के बाद इसका सेवन करे। loose motion रोकने के लिए ये देसी दवा काफी उपयोगी है।

4. दस्त लगे हो या फिर कब्ज हो गयी हो ईसबगोल से दोनों के उपचार में फायदा होता है। दस्त रोकने के लिए दही में ईसबगोल घोल कर खाएं।

5. 4 कप पानी में 4 छोटी इलायची डाल कर इसे पकाए। जब पानी 3 कप बच जाए तब इसे ठंडा होने दे। दस्त की समस्या में हर 4 घंटे बाद इसमें से 1 कप पानी पिए।

6. संतरे के छिलकों को सूखा कर पीस ले और चूर्ण बना ले। मुनक्का के सूखे बीजों को पीस कर इसका भी चूर्ण बना ले। अब इन दोनों चूर्ण की बराबर मात्रा ले और इसे पानी में घोल कर पी जाये। इस उपाय से दस्त दूर होने लगेगा।

7. दस्त रोकने के लिए क्या खाएं, बड़े हो या फिर बच्चे किसी को भी दस्त लगा हो दही चावल खाये। इससे दस्त में आराम मिलता है।

8. गर्मी लगने के कारण दस्त लगे है तो 7-8 सिंघाड़े खाए और 1 गिलास लस्सी पिए। इस उपाय से शरीर से गर्मी दूर होगी और पतले दस्त भी शांत हो जायेंगे।

9. कुछ लोगों को दस्त में खून आने की समस्या भी होती है। ऐसे में गाय के दूध का बना मक्खन खाने से राहत मिलती है। खूनी दस्त रोकने के लिए 10-15 ग्राम मक्खन खाए और एक गिलास लस्सी पिए।

10. दस्त दूर करने के लिए जामुन के पेड़ के सूखे पत्ते पीस कर इसमें एक चौथाई चम्मच सेंधा नमक मिला कर दिन में 2 बार खाए।

 

दस्त और पेट में मरोड़ का रामबाण उपचार

  1. दस्त होने पर जीरा 5 ग्रांम की मात्रा में भून कर पीस ले। अब दही के साथ इसका सेवन करे। कुछ देर में ही आपको आराम महसूस होने लगेगा।
  2. अगर लूस मोशन होने के साथ आपके पेट में मरोड़ भी है तो जीरे की सामान में सौंफ ले और इसे भी भून कर पीस ले और या जीरा और सौंफ साथ मिला कर भून और पीस ले। अब इस मिश्रण का 1 चम्मच दिन में 2-3 तीन बार ले।
  3. 1 चम्मच नींबू का रस और 1 चम्मच अदरक का रस काली मिर्च के साथ लेने से भी दस्त से निजात मिलती है।
  4. एक छोटा टुकड़ा अदरक का मुँह में रख कर इसका रस चूसने से दस्त और पेट की मरोड़ में आराम मिलता है।
  5. अदरक वाली चाय भी दस्त ठीक करने में मददगार है।

 

बच्चों के दस्त रोकने के उपाय

  • जब बच्चे के दाँत निकलने शुरू होते है तब उसे बुखार और दस्त जैसी समस्या आती है। ऐसी स्थिति में बच्चे के खान पान का ध्यान रखना चाहिए। बच्चे को हल्का भोजन खिलाए।
  • शरीर में नमक की कमी होने और कई बार गर्मी लगने की वजह से बच्चों को दस्त लग जाते है। ऐसे में थोड़ा नमक पानी में घोल कर बच्चे को पिलाए।
  • खराब खाना खाने से भी बच्चे को डायरिया जाता है, इससे बचने के लिए बच्चे को साफ खाना ही खिलाए।

 

दोस्तों दस्त का घरेलू इलाज और उपाय, gharelu nuskhe for loose motion in hindi का ये लेख आपको कैसा लगा हमें बताये और अगर आपके पास डायरिया और पेट में मरोड़ का इलाज के कोई सुझाव है तो हमारे साथ साँझा करे।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!