अपेंडिक्स का उपचार घरेलू तरीके और देसी नुस्खे से कैसे करे

अपेंडिक्स हमारे पेट में आंत के बीच का हिस्सा होता है जिसे अपेंडिसाइटिस भी कहते है। अपेंडिक्स पेट के दायीं तरफ नीचे की और होती है, इसमें अगर इंफेक्शन हो जाये तो सूजन आ जाती है जिससे दर्द होने लगता है। जैसे जैसे सूजन बढ़ती है, ये दर्द भी बढ़ता जाता है और अंत में इसका इलाज ऑपरेशन पर आकर खत्म होता है और इसे पेट से बाहर निकालना पड़ता है पर अगर इसके लक्षणों को पहचान कर समय रहते ही उपाय कर लिया जाये तो इससे छुटकारा पाया जा सकता है। अपेंडिक्स का उपचार के लिए देसी नुस्खे बहुत कारगर है परन्तु यदि परेशानी बहुत बढ़ गई है तो फिर ऑपरेशन ही इसका इलाज है। आइये जाने home remedies tips for appendix pain treatment in hindi.

 

अपेंडिक्स का काम हमारे शरीर में सेल्युलोस को पचाने का होता है पर अब हम पका हुआ भोजन खाते ही है तो इसका हमारे शरीर में जादा उपयोग नहीं है।

अपेंडिक्स का उपचार घरेलू तरीके और देसी नुस्खे से कैसे करे

 

अपेंडिक्स होने के कारण : Appendix Pain Causes

  • क़ब्ज़ रहना
  • आँतो में भोजन के कण का जाना
  • भोजन में फाइबर की मात्रा का कम होना
  • फलों के बीजों का अपेंडिक्स में फसना
  • अपेंडिक्स में गाँठ या केंसर की बीमारी का होना

 

अपेंडिक्स के लक्षण क्या है : Appendix Symptoms

पेट में नाभि के आसपास दर्द महसूस होना, उल्टी आना, जी मचलना, पेट में सूजन, भूख न लगना, बुखार आना, गैस बनना और पेशाब करने  में परेशानी होना अपेंडिक्स के लक्षणों में से है।

 

अपेंडिक्स में इंफेक्शन के कारण

अपेंडिक्स का आकार ऐसा होता है की इसका एक तरफ का हिस्सा खुला होता है और दुसरा हिस्सा बंद। कई बार भोजन करते समय भोजन के कुछ कण अपेंडिक्स में चले जाते है जिसके कारण पेट में इन्फेक्शन हो जाता है और अपेंडिक्स में सूजन आ जाती है।

पुरानी कब्ज और पेट के कीड़े अपेंडिक्स को और नुकसान पहुँचाते है। ये अपेंडिक्स की कार्य प्रणाली को प्रभावित करते है और इनके कारण परेशानी और भी बढ़ सकती है और अपेंडिक्स फट भी सकती है।

 

अपेंडिक्स का उपचार के घरेलू उपाय और देसी नुस्खे

Appendix ka Upchar ke Gharelu Upay aur Desi Nuskhe

 

1. अदरक सूजन को कम करने में काफ़ी फायदेमंद है। अदरक वाली चाय का दो से तीन बार सेवन करे या फिर पेट पर मसाज के लिए अदरक के तेल का प्रयोग करे।

2. त्तुलसी का सेवन अपेंडिक्स में रामबाण इलाज है, रोजाना तीन से चार पत्ते तुलसी के चबा चबा कर खाने से बहुत लाभ मिलता है।

3. पुदीना पेट की समस्याओं को दूर करने का एक अच्छा उपाय है, पेट में गैस और चक्कर आदि में पुदीना बहुत ही कारगर है। पुदीने की चाय से अपेंडिक्स के दर्द में आराम मिलता है।

4. पाचन शक्ति ठीक रखने और कब्ज़ से दूर रहने के लिए ऐलोवेरा का प्रयोग अच्छा उपाय है।

5. पालक का साग आंतों की बीमारियों के इलाज में बहुत कारगर है।

6. दूध को उबाल ले और बाद में ठंडा करके सेवन करने से लाभ होता है।

7. ज्यादा चटपटी और तली हुई चीजों का सेवन ना करे, पानी जादा पिए और तरल पेय आदि प्रयोग करे।

8. खाली पेट 2 – 3 लहुसन की कलियाँ खाये और भोजन के साथ भी लहसुन के सेवन की आदत बनाये।

9. खाना खाने से पहले थोड़ा सेंधा नमक और अदरक टमाटर पर लगाकर खाए।

10. अपेंडिक्स का ट्रीटमेंट घरेलू तरीके से करने में छाछ भी एक महत्वपूर्ण उपाय है, छाछ के गिलास में थोड़ा सा काला नमक मिलाकर पिने से अपेंडिक्स में आराम मिलता है।

 

अपेंडिक्स का इलाज के आयुर्वेदिक नुस्खे

1. दो चम्मच मेथी दाना 1 गिलास पानी में डाल कर इसे उबाल ले और इसे दिन में एक बार पिए,  हो सके तो खाने में भी मेथी के दाने का इस्तेमाल करे। इस नुस्खे से अपेंडिक्स का दर्द दूर होता है और सूजन भी कम होती है।

2. ईमली के छोटे छोटे बीजों को पीस कर एक लेप बना कर इसे पेट पर मले। इस उपाय से सूजन कम होती है और अगर पेट फूलता है तो उससे भी राहत मिलेगी।

3. दर्द वाली जगह पर राई पीस कर मलने से दर्द में आराम मिलता है। इस लेप को एक घंटे से  जाड़ा ना लगा रहने दे इस से छाले हो सकते है।

4. शरीर की इम्यूनिटी को बढ़ने में विटामिन सी काफी मदद करता है, इसके लिए थोड़ा शहद ले और इसमें 1 नींबू निचोड़ कर इसका सेवन करे।

5. आधा ग्राम गूगल को गुड के साथ लेने से भी आराम मिलता है। अगर आप कोई आयुर्वेदिक दवा/मेडिसिन लेना चाहते है तो baba ramdev पतंजली स्टोर या किसी पंसारी की दुकान से ले सकते है।

 

मरीज के साथ साथ डॉक्टर के लिए भी कई कई बार ये बीमारी परेशानी बन जाती है, क्योंकि अक्सर ये जानना कठिन हो जाता है की पेट में होने होने वाला दर्द अपेंडिक्स के कारण ही है या फिर कोई और वजह है। यही कारण है की  पेट में होने वेल दर्द की सही वजह जानने के लिए डॉक्टर पेशाब, ब्लड या अल्ट्रासाउंड टेस्ट करवाने की सलाह देते है।

 

अपेंडिक्स के रोग से बचने के तरीके

इस रोग से बचने के लिए पोषक तत्वों से भरपूर चीजें खाये और अपने भोजन में फाइबर्स युक्त चीज़े शामिल करे, इससे पेट में कब्ज़ नहीं बनेगी और पेट में जमा गंदगी पेट से बाहर निकल जाएगी। इसके साथ साथ पानी अधिक पिए, खाना सही समय पर ले और शरीर में चर्बी बढ़ाने वाली चीजों से परहेज करे।

 

दोस्तों अपेंडिक्स का उपचार के घरेलू उपाय और देसी नुस्खे का ये लेख आपको कैसा लगा हमें कमेंट के जरिये बताये और अगर आपके पास अपेंडिक्स का दर्द और सूजन का इलाज के आयुर्वेदिक तरीके या कोई अनुभव है तो हमारे साथ भी शेयर करे।

You may also like...

14 Responses

  1. Pratham says:

    Bhai mujhe aapke tarike pasand aye par…
    PTA nhi ki ye kaaam bhi ayenge ya nahi

    • Admin says:

      दोस्त सही तरीके से और निरंतर उपाय करे फायदा जरूर मिलेगा.

  2. radhe sham says:

    sir muje operation krae hue 6 year ho gye hai
    lekin 6 year bad ab fir se pet ke niche wale hise me ges bharti hai mai kya kru

    • Admin says:

      दोस्त आपने जिस डॉक्टर से इलाज करवाया था एक बार उनसे मिले और चेकउप करवाए.

  3. Abhishek says:

    Bhai mujhe bahari bawasir hai jisme sujan rehati hai ye bwasir 15 se 20 day rehati hai phir apne aap thik ho jati hai mai kya karu koi cream bataye.

  4. mannu kumar says:

    Bhai mujhe eczema hai 1 saal ho gya hai main bhut si dawai kara ke thak chuka main kya karu.

  5. kapil says:

    Sir mujhe operation kareye huye 15 mahine ho gye or ab fir se dard hota h to kya kru

    • Admin says:

      आप ने जिस चिकित्सक से इलाज लिया है आप उनसे मिले और जाँच कराये ताकि दर्द के कारण पता लगे.

  6. Chauhan Pankajkumar says:

    Mere appendix ki problem chhe operation karwau ke na karavau.

    • Admin says:

      अपेंडिक्स का ऑपरेशन करवाना चाहिए या नहीं ये डॉक्टर जाँच से ही बता सकते है.

  7. jeetu kaka says:

    sir g mere pet me dard he baye haath ke niche aap batao ge kya he ye

  8. फरहाना says:

    मेरे लगभग 4 वर्ष से पेट में दर्द होता है 2 बार अल्ट्रासाउंड कराया पर नार्मल आया पर दर्द नहीं रुकता है कृपया समाधान बताये।

    • Admin says:

      पेट में गैस बनने की वजह से भी अक्सर पेट में दर्द की शिकायत हो जाती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!